रांची

--Advertisement--

हटिया-राउरकेला सेकेंड लाइन का काम छोड़ भागे कांट्रैक्टर, बिना सुरक्षा नहीं लौटना चाहते

यह पूरा रेल प्रोजेक्ट पीएमओ की देखरेख में चल रहा है। इस रेल लाइन को वर्ष 2022 तक पूरा कर लेना है।

Danik Bhaskar

Apr 01, 2018, 02:42 AM IST
2022 में आजादी के 75 वर्ष पूरे होने पर रेलवे के इस प्रोजेक्ट को प्रधानमंत्री कार्यालय ने पूरा करने को कहा है। 2022 में आजादी के 75 वर्ष पूरे होने पर रेलवे के इस प्रोजेक्ट को प्रधानमंत्री कार्यालय ने पूरा करने को कहा है।

रांची. उग्रवादी क्षेत्र में रेलवे का काम करना कांट्रैक्टरों के लिए मुश्किल हो गया है। शुक्रवार को एसके कंस्ट्रक्शन के इंजीनियर और मुंशी की हत्या के बाद से हटिया-राउरकेला सेक्शन में चल रहे रेल लाइन के दोहरीकरण का काम ठप हो गया है। इस सेक्शन में आठ से 10 जगह पर काम चल रहा है। सभी जगहों पर काम बंद कर दिया गया है। काम करा रही एजेंसी के इंजीनियर और कर्मचारी डरे हुए हैं। सुरक्षा के बिना काम नहीं करना चाहते हैं।

रेलवे के साइट पर सन्नाटा पसरा हुआ है। रेल लाइन बिछाने के लिए पटरी और स्लैब मालगाड़ियों के डिब्बे में रखे हुए पाए गए। दोहरीकरण के लिए मिट्टी भराई का भी काम जहां-तहां रूक गया है। अब यह रेलवे अधिकारियों को भी नहीं पता है कि कब शुरू होगा। ऐसी स्थिति में काम करना मुश्किल हो गया है। रेलवे के एजेंसी को एक तरफ पुलिस का और दूसरी तरफ उग्रवादियों का भय है।

कितना महत्वपूर्ण है प्रोजेक्ट

हटिया-राउरकेला का दोहरीकरण को समय पर पूरा करने का निर्देश है। यह पूरा रेल प्रोजेक्ट पीएमओ की देखरेख में चल रहा है। इस रेल लाइन को वर्ष 2022 तक पूरा कर लेना है।

जान के डर से बोलने को तैयार नहीं

जान के डर से हटिया-राउरकेला सेक्शन काम कर रही एजेंसी कुछ बोलने को तैयार नहीं है। इनमें फ्यूचर एजेंसी, एसके कंस्ट्रक्शन, भीगू जी कंस्ट्रक्शन, महादेव कंस्ट्रक्शन समेत अन्य है।

उग्रवादी काम के लिए मांगते हैं लेवी, पुलिस कहती है कि लेवी मत दो, बीच में पीसती है एजेंसी

सेक्शन में काम करा रही एक एजेंसी ने बताया कि पुलिस कहती है कि उग्रवादियों को लेवी मत दो। दूसरी तरफ नक्सली लेवी नहीं देने तक काम नहीं शुरू करने की धमकी देते हैं। बीच में काम करा रही एजेंसी पीसती है। हमें जान की परवाह है। पुलिस तो कह देती है कि लेवी नहीं दीजिए। जान की सुरक्षा भी नहीं दे रही है। क्या करें, अंत में काम छोड़ना पड़ेगा। ऐसी स्थिति में रेल प्रोजेक्ट लेट होगा।

ट्रैक मेंटेनेंस का काम बंद

हटिया-राउरकेला सेक्शन में प्रतिदिन ट्रैक मेंटेनेंस का काम चल रहा है। इस घटना के बाद से ट्रैक मेंटेनेंस का भी काम बंद हो गया है। यह सेफ्टी से जुड़ा है। वीआईपी ट्रेनों का मूवमेंट है। प्रतिदिन 30 ट्रेन अप डाउन करती है।

डबल लाइन हो रही है

यह सेक्शन सिंगल लाइन है। यह डबल हो रहा है। क्योंकि, आने वाले समय में इस लाइन से कोयले की ढुलाई बढ़ने वाली है। एक्सप्रेस और पैसेंजर ट्रेनों का मूवमेंट भी बढ़ेगा। अभी सिंगल लाइन होने से ट्रेनें सेक्शन में फंस रही है।

रांची डीआरएम विजय कुमार गुप्ता ने बताया कि घटना बड़ी है। उग्रवादियों ने काम करा रही एजेंसी के इंजीनियर और मुंशी की हत्या कर दी है। ऐसे में कांट्रैक्टर डरे हुए हैं। साइट पर से कर्मी भाग गए हैं। पूरा सेक्शन में काम बंद हो गया है। इससे रेल प्रोजेक्ट लेट होगा। जानमाल की सुरक्षा देना राज्य सरकार की जिम्मेवारी है। सोमवार को राज्य सरकार को पत्र लिखेंगे।

Click to listen..