Hindi News »Jharkhand »Ranchi »News» Postmortem Report Sanjay Jha Death Case

पिता की मौत को बेटे ने बताया खुदकुशी, पोस्टमॉर्टम में हत्या की बात आई सामने

पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने के बाद हत्या का केस दर्ज, घरवालों से करेगी पूछताछ पुलिस

Bhaskar News | Last Modified - Jan 06, 2018, 04:41 AM IST

  • पिता की मौत को बेटे ने बताया खुदकुशी, पोस्टमॉर्टम में हत्या की बात आई सामने
    +3और स्लाइड देखें
    मृतक संजय झा।

    रांची. लोअर वर्द्धमान कंपाउंड निवासी व डीसी ऑफिस में कर्मचारी संजय झा की आत्महत्या के मामले को लालपुर पुलिस ने शुक्रवार को हत्या के केस में बदल दिया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गला दबाकर हत्या की बात सामने आई है। पुलिस को संजय झा के घरवालों पर शक है। पुलिस घर के हर सदस्य से एक-एक कर के पूछताछ करेगी। पुलिस ने मृतक की कॉल डिटेल निकाली है। पुलिस का कहना है कि घरवालों ने कई बातें छुपाई है। पुलिस डीसी ऑफिस के कर्मचारियों से भी पूछताछ करेगी।

    छोटे बेटे ने मामले को बताया था खुदकुशी

    -12 दिसंबर की देर रात पुलिस को सूचना मिली थी की संजय झा ने अपने घर में फांसी लगा ली है। घरवाले उन्हें अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया था।

    - उनके छोटे पुत्र निहाल ने पुलिस को बताया कि मंगलवार रात नौ बजे पिता ऑफिस से घर लौटे। घर आकर उन्होंने खाना खाया और फिर अपने कमरे में सोने चले गए।

    - दो मंजिला घर में ऊपर में एसबेस्टस का घर है। पिता वहीं अकेले सोते थे। मां और हम नीचे वाले कमरे में सोते हैं। रात पौने 12 बजे पिता ने मां अनिता देवी को फोन किया और उनकी तबीयत के बारे में जानकारी ली।

    - इसके बाद उन्होंने मुझे फोन किया और पूछा कि घर में सब ठीक ठाक है न। मैंने कहा हां, सब ठीक है। इसके बाद पिता बोले कि वे फांसी लगाने जा रहे हैं। उनके मुंह से ऐसी बातें सुन कर मुझे लगा कि वे मजाक कर रहे हैं, क्योंकि कई बार वे ऐसा कह चुके थे। मैंने सोचा कि उन्हें काम काे लेकर तनाव होगा। वे सचमुच फांसी लगा लेंगे, यह सपने में भी नहीं सोचा था।

    - बेटों का कहना था कि उनके पिता पर काम का बोझ अधिक था। वे कार्यालय से जब भी घर आते थे, तो कहते थे कि वर्कलोड बहुत अधिक है, वे आत्महत्या कर लेंगे।

    - वहीं पुलिस का कहना है कि सूचना पर घर की छानबीन की गई तो घर का दरवाजा टूटा मिला था। मौके से पुलिस को नायलॉन की रस्सी मिली थी।

    पोस्टमॉर्टम में पैर और हाथ में भी जख्म के निशान

    पोस्टमाॅर्टम में गला घोंटने की बात सामने आई है। आमतौर पर फांसी लगाने के बाद जो निशान गले में बनते हैं, वे निशान इस पोस्टमार्टम रिपोर्ट में नहीं है। रस्सी से गला दबाने पर जब व्यक्ति विरोध करता है, तब गले में रगड़ाने से घाव के निशान बन जाते हैं। वहीं निशान संजय झा के गले में मिले हैं। उनके पैर और हाथ में भी जख्म के निशान हैं।

    पत्नी ने कही थी ये बात

    - संजय झा की पत्नी अनिता देवी ने बताया कि रात में उन्हें फांसी लगाने की सूचना बेटे ने दी। इसके बाद पूरा परिवार ऊपरवाले कमरे में गया। दरवाजा अंदर से बंद था। सबने मिल कर दरवाजा तोड़ा, तो देखा कि पति फांसी के फंदे पर झूल रहे थे। उन्हें तुरंत उतारा गया। उस समय उनकी स्थिति ठीक थी।

    - इसके बाद घर में गाड़ी नहीं होनेे की वजह से मोहल्ले में गाड़ी जुगाड़ने में 30 मिनट से ज्यादा समय लग गया। फिर उन्हें रिम्स ले जाया गया। कुछ ही देर में डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। समय पर गाड़ी मिल जाती तो शायद पति बच जाते। लेकिन, किस्मत को कुछ और ही मंजूर था। पड़ोसियों के मुताबिक, संजय झा शांत स्वभाव के व्यक्ति थे।

    3 बेटों में एक दिल्ली में, दो रांची में रह कर पढ़ाई कर रहे हैं
    - संजय झा के तीन बेटे हैं। बड़ा बेटा निखिल दिल्ली में रहकर प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहा है। मंझला बेटा शुभम रांची में ही प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करता है। जबकि, छोटा बेटा निहाल लालपुर स्थित बीआईटी एक्सटेंशन में बीटेक की पढाई कर रहा है।

  • पिता की मौत को बेटे ने बताया खुदकुशी, पोस्टमॉर्टम में हत्या की बात आई सामने
    +3और स्लाइड देखें
    मृतक संजय झा की पत्नी अनिता देवी ने बताया पूरा वाकया।
  • पिता की मौत को बेटे ने बताया खुदकुशी, पोस्टमॉर्टम में हत्या की बात आई सामने
    +3और स्लाइड देखें
    मामले की खबर मिलने पर मौका-ए-वारदात पर पहुंची पुलिस।
  • पिता की मौत को बेटे ने बताया खुदकुशी, पोस्टमॉर्टम में हत्या की बात आई सामने
    +3और स्लाइड देखें
    मृतक के दो मंजिला घर में ऊपर में एसबेस्टस का घर है।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×