--Advertisement--

बिहार में शराब की होम डिलीवरी, मैं शराबबंदी कर वोट बटोरने वाला नेता नहीं- सीएम

शराबबंदी वाली पंचायतों को दो-दो लाख रुपए का पुरस्कार देगी सरकार

Danik Bhaskar | Dec 08, 2017, 08:26 AM IST
चतरा में बजट पूर्व संगोष्ठी मे चतरा में बजट पूर्व संगोष्ठी मे

रांची. चतरा में मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि बिहार सरकार ने जब से शराबबंदी लागू की है, वहां शराब की होम डिलीवरी शुरू हो गई है। स्कूली बच्चों से शराब की होम डिलीवरी कराई जा रही है। यह सामाजिक बुराई है। इसे सामाजिक दंड और जागरूकता से ही खत्म किया जा सकता है। इसीलिए झारखंड सरकार ने शराबबंदी वाली पंचायतों को दो-दो लाख रुपए का पुरस्कार देने की घोषणा कर रखी है। उन्होंने कहा-मैं शराबबंदी कर वोट बटोरने वाला नेता नहीं हूं। बजट पूर्व संगोष्ठी में सीएम ने कहा कि बजट राज्य के विकास की दिशा तय करता है। लोगों की सरकार से क्या अपेक्षा है। वे क्या चाहते हैं, यह समझने के लिए ही बजट पूर्व संगोष्ठी की जा रही है। अच्छे सुझाव बजट में शामिल किया जाएगा।

विकास के मामले में झारखंड गुजरात के बाद दूसरा राज्य

उन्होंने कहा कि विकास के मामले में झारखंड दूसरे और गुजरात पहले नंबर पर है। बिना कोयला-लोहा के गुजरात पहला स्थान हासिल कर सकता है तो खनिजों से समृद्ध झारखंड नंबर-1 क्यों नहीं बन सकता। झारखंड देश का ही नहीं, दुनिया का नंबर-1 राज्य बन सकता है। हम झारखंड की तुलना गुजरात-महाराष्ट्र से नहीं, विकसित राष्ट्र से करना चाहते हैं। यह सच है कि देश का सबसे समृद्ध राज्य होने के बावजूद झारखंड में गरीबी है। इसका मुख्य कारण अशिक्षा, अज्ञानता और डायन-बिसाही जैसी समस्या है। पहले की सरकारों ने यहां के लोगों को गरीब बनाए रखा। देश में वाजपेयी और मोदी के कार्यकाल को हटा दें तो केंद्र से पंचायत तक एक ही पार्टी की सरकार रही। पिछले तीन सालों में जितना विकास हुआ है, अगर पिछले 67 सालों में इसी गति से विकास होता तो भारत दुनिया का सबसे धनी देश होता।

महिला सशक्तिकरण की मौन क्रांति की शुरूआत

सीएम ने कहा कि झारखंड में महिला सशक्तिकरण की मौन क्रांति की शुरूआत हो चुकी है। तीन सालों में झारखंड बदलता दिख रहा है। यह स्थिर सरकार के कारण संभव हो सका है। सरकार की मंशा है कि सभी योजनाएं जनता के अनुरूप जन भागीदारी के माध्यम से ही बनाई जाए।

चतरा में एक हजार एमटी क्षमता वाले कोल्ड स्टोरेज : सीएम ने चतरा में एक हजार एमटी क्षमता वाले कोल्ड स्टोरेज बनाने की बात कही, जिसका संचालन किसान समिति करेगी। कार्यक्रम को मुख्य सचिव राजबाला वर्मा, विकास आयुक्त अमित खरे, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य सुधीर त्रिपाठी, अपर मुख्य सचिव योजना एवं वित्त सुखदेव सिंह, कृषि सचिव पूजा सिंघल ने भी विचार रखे।