रांची

--Advertisement--

चारा घोटाले में वे 6 बातें जो पहली बार हुईं, इसलिए ये केस हमेशा याद किया जाएगा

3 साल तक की सजा में तुरंत जमानत मिल सकती थी, लालू को साढ़े तीन साल की सजा।

Dainik Bhaskar

Jan 07, 2018, 05:33 AM IST
जर्नालिस्ट जब फोटो के लिए दौड़ रहे थे, तो सीबीआई के विशेष जज शिवपाल सिंह खड़े हो गए...आैर कहा- अब खींच लीजिए फोटो जर्नालिस्ट जब फोटो के लिए दौड़ रहे थे, तो सीबीआई के विशेष जज शिवपाल सिंह खड़े हो गए...आैर कहा- अब खींच लीजिए फोटो

रांची. 950 करोड़ के चारा घोटाले से जुड़े एक और मामले में शनिवार को सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने बिहार के लालू प्रसाद को साढ़े तीन साल जेल और 10 लाख रुपए जुर्माने की सजा सुनाई। स्पेशल जज शिवपाल सिंह की कोर्ट ने 21 साल पुराने देवघर ट्रेजरी से अवैध निकासी के मामले (64ए/96) में लालू समेत 16 आरोपियों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सजा सुनाई। सजा सुनाने के बाद स्पेशल जज ने कहा- "चूंकि आरोपियों को पशुपालन का अनुभव है, इसलिए सभी आरोपियों को ओपन जेल में भेज कर पारिवारिक सदस्यों के साथ गोपालन करवाया जाए। वहां लालू गाय की सेवा करेंगे और राबड़ी देवी उनका सहयोग करेंगी।"

सुनवाई से फैसले तक... वे 6 बातें जो पहली बार हुईं

1. अब तक दो साल, तीन साल, पांच साल की सजा दी गई है। पहली बार किसी सजा में महीनों का हिसाब करते हुए साढ़े तीन साल की सजा दी गई।
2. लगातार पांच दिनों तक सीबीआई के स्पेशल जज शिवपाल सिंह की कोर्ट में सजा के बिंदु पर सुनवाई होती रही।
3. मृत 11 आरोपियों द्वारा 1990 के बाद अर्जित चल-अचल संपत्ति को जब्त करने का भी आदेश दिया गया।
4. कोर्ट ने मामले के दो सरकारी गवाहों शिवकुमार पटवारी और शैलेश प्रसाद सिंह के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के लिए नोटिस जारी किया।
5. सीआरपीसी की धारा 319 के प्रॉविजन का इस्तेमाल किया गया। प्रथम दृष्टया आरोपी बन रहे देवघर के तत्कालीन डिप्टी कमिश्नर सुखदेव सिंह और तत्कालीन आईजी डीपी ओझा के खिलाफ मुकदमा चलाने के लिए अलग से अभिलेख खोल दिया।

6. फैसले पर टिप्पणी करनेवाले आरजेडी नेता रघुवंश प्रसाद सिंह, शिवानंद तिवारी, कांग्रेस के स्पोक्सपर्सन मनीष तिवारी और लालू के बेटे तेजस्वी प्रसाद के खिलाफ कंटेम्पट ऑफ कोर्ट के आरोप में नोटिस जारी किया है।

हाईकोर्ट जाने में सात से 10 दिन का समय लगेगा

- लालू को IPC की धारा 120B, 420, 467, 471 और 477 A के तहत साढ़े तीन साल जेल और पांच लाख रुपए जुर्माने की सजा सुनाई गई है। वहीं भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम की धारा 13(2) एवं 13(1)(सी)(डी) के तहत साढ़े तीन साल की सजा और पांच लाख रुपए जुर्माना लगाया गया है।

- दोनों सजाएं साथ-साथ चलेंगी, इसलिए लालू को साढ़े तीन साल ही जेल में काटना होगा, जबकि दोनों सजाओं की जुर्माने की राशि एकमुश्त 10 लाख रुपए देनी होगी। जुर्माने की रकम नहीं देने पर उन्हें एक साल की अतिरिक्त सजा भुगतनी होगी।

- फैसले को चुनौती देते हुए आरोपी हाईकोर्ट में अपील पिटीशन दायर करेंगे। उसी पिटीशन में जमानत की भी मांग करेंगे। अपील और बेल पिटीशन फाइल करने में लगभग सात से दस दिन का समय लग जाएगा। इस बीच लालू प्रसाद से जुड़े दो और मामलों में भी फैसला आने की संभावना है।

चाईबासा और दुमका ट्रेजरी से अवैध निकासी मामले की सुनवाई भी पूरी

- चाईबासा ट्रेजरी मामले आरसी 68ए/96 में भी सीबीआई के स्पेशल जज एसएस प्रसाद की कोर्ट ने सुनवाई पूरी कर ली है। इस महीने के आखिरी हफ्ते में फैसला आ सकता है।

- इसके अलावा दुमका ट्रेजरी से जुड़े मामले आरसी 38ए/96 में भी सुनवाई पूरी कर ली गई है। यह मामला सीबीआई के स्पेशल जज शिवपाल सिंह की कोर्ट में सुनवाई के लिए पेंडिंग है। इन दोनों मामलों में फैसला जनवरी के आखिरी हफ्ते से फरवरी के पहले हफ्ते में आने की पूरी संभावना है।

- ऐसे में माना जा रहा है कि लालू प्रसाद फिलहाल छह महीने तक जेल से बेल पर बाहर नहीं आ सकेंगे।

अब तक लालू 394 दिन जेल में रहेे

सजा और जेल लालू के जीवन में नया नहीं। अलग-अलग मामलों में वह अब तक 394 दिन जेल में रह चुके हैं।

1) 30 जुलाई 1997 से 11 दिसंबर 1997: 134 दिन

2) 28 अक्तूबर 1998 से 18 जनवरी 1999: 73 दिन

3) 5 अप्रैल 1999 से 11 मई 1999: 35 दिन

4) 28 नवंबर 1999 से 29 नवंबर 1999: 01 दिन

5) 26 नवंबर 2001 से 24 जनवरी 2002: 59 दिन

6) 30 सितंबर 2013 से 16 दिसंबर 2013: 78 दिन

7) 23 दिसंबर 2017 से अब तक: 14 दिन

जगदीश शर्मा को 7 साल कैद
- एक अन्य दोषी पूर्व सांसद जगदीश शर्मा को सात साल जेल और 20 लाख जुर्माने की सजा सुनाई गई। जुर्माना नहीं देने पर उन्हें दो साल की सजा अलग से भुगतनी होगी।

- वहीं, पूर्व विधायक आरके राणा को साढ़े तीन साल कैद और 10 लाख जुर्माना की सजा सुनाई गई। जुर्माने नहीं देने पर उन्हें एक साल अतिरिक्त जेल में गुजारना होगा।

किसको कितनी सजा?

- 16 आरोपियों में सबसे लंबी सजा पूर्व सांसद जगदीश शर्मा को।

- 7 आरोपियों को सात-सात साल की सजा।

- 9 आरोपियों को साढ़े तीन साल की सजा। इनमें लालू भी शामिल।

र फैसला सुनाने के लिए कोर्ट में जाते स्पेशल जज शिवपाल सिंह। र फैसला सुनाने के लिए कोर्ट में जाते स्पेशल जज शिवपाल सिंह।
शनिवार को देवघर कोषागार से जुड़े चारा घोटाला मामले में फैसले के इंतजार में सीबीआई ई-कोर्ट के बाहर भीड़ शनिवार को देवघर कोषागार से जुड़े चारा घोटाला मामले में फैसले के इंतजार में सीबीआई ई-कोर्ट के बाहर भीड़
कोर्ट परिसर में विधायक भोला यादव, अन्नपूर्णा देवी व अन्य। कोर्ट परिसर में विधायक भोला यादव, अन्नपूर्णा देवी व अन्य।
X
जर्नालिस्ट जब फोटो के लिए दौड़ रहे थे, तो सीबीआई के विशेष जज शिवपाल सिंह खड़े हो गए...आैर कहा- अब खींच लीजिए फोटोजर्नालिस्ट जब फोटो के लिए दौड़ रहे थे, तो सीबीआई के विशेष जज शिवपाल सिंह खड़े हो गए...आैर कहा- अब खींच लीजिए फोटो
र फैसला सुनाने के लिए कोर्ट में जाते स्पेशल जज शिवपाल सिंह।र फैसला सुनाने के लिए कोर्ट में जाते स्पेशल जज शिवपाल सिंह।
शनिवार को देवघर कोषागार से जुड़े चारा घोटाला मामले में फैसले के इंतजार में सीबीआई ई-कोर्ट के बाहर भीड़शनिवार को देवघर कोषागार से जुड़े चारा घोटाला मामले में फैसले के इंतजार में सीबीआई ई-कोर्ट के बाहर भीड़
कोर्ट परिसर में विधायक भोला यादव, अन्नपूर्णा देवी व अन्य।कोर्ट परिसर में विधायक भोला यादव, अन्नपूर्णा देवी व अन्य।
Click to listen..