--Advertisement--

पत्थलगड़ी की आड़ में अब जवानों को हटाने की मांग, गांववालों ने की मारपीट

ग्रामीणों ने यह लिखवा कर लिया कि दो दिनों के अंदर स्कूल और गांव छोड़कर चले जाएंगे।

Danik Bhaskar | Mar 14, 2018, 02:39 AM IST

खूंटी. पत्थलगड़ी की आड़ में पुलिस को गांव में घुसने से रोकने और कुरूंगा में पुलिस जवानों को बंधक बनाए जाने के बाद ग्रामीण अब स्कूलों में तैनात सीआरपीएफ, सैफ व अन्य पुलिस जवानों को हटाने की मांग करने लगे हैं। मंगलवार को मुरहू प्रखंड के सीमांत गांव केवड़ा के राजकीयकृत उत्क्रमित मध्य विद्यालय में दो सालों से तैनात सैफ व जिला पुलिस बल को हटाने की मांग को लेकर ग्रामीणों ने अस्थाई कैंप का घेराव कर दिया।

सैकड़ों की संख्या में आसपास की महिलाओं और पुरुषों ने स्कूल स्थित कैंप को करीब पांच घंटे तक घेरे रखा। ग्रामीणों ने कैंप में जबरन घुसकर सूबेदार एसएन राय समेत अन्य पुलिस जवानों के साथ मारपीट भी की। तब पुलिस के जवान ग्रामीणों के उग्र रूप देख काफी भयभीत थे।


उधर, सूबेदार राय ने बताया कि देर शाम पांच बजे मुझसे ग्रामीणों ने यह लिखवा कर लिया कि दो दिनों के अंदर स्कूल और गांव छोड़कर चले जाएंगे। इसके बाद सारे ग्रामीण कैंप से लौट गए। राय ने बताया कि ग्रामीणों का कैंप के सामने वाले मैदान में सुबह दस बजे से ही जुटना शुरू हो गया था। दोपहर 12 बजे के करीब बैठक करने के बाद अचानक कैंप को घेर लिया। उस वक्त कई जवान मौजूद थे। सभी को घेर लिया। किसी तरह उन लोगों के चंगूल से छूटकर सभी जवान कमरे व छत के उपर चले गए। ग्रामीणों ने ऊपर चढ़ने की भी कोशिश की। जिस कमरे में हथियार थे, ग्रामीणों ने वहां भी घुसने का प्रयास किया। दोपहर 12 बजे से शाम 5 बजे तक केवड़ा कैंप ग्रामीणों के कब्जे में रहा। बावजूद इसके मुरहू पुलिस केवड़ा गांव तक नहीं गई।

एक से 8 जगहों पर अखड़ा विद्यालय का होगा शुभारंभ

आदिवासी महासभा अब अखड़ा विद्यालय खोलने की तैयारी में है। सब कुछ ठीक ठाक रहा तो एक अप्रेल से जिले के आठ जगहों पर अखड़ा विद्यालय खोला जाएगा। इन स्कूलों में आदिवासी महासभा के लोग बच्चों को पढ़ाएंगे।। महासभा के सदस्य बलराम समद ने बताया कि आदिवासियों ने अपने बच्चों को सरकारी स्कूल में नहीं भेजने का निर्णय लिया है। चिन्हित गांवों में जहां भी सरकार द्वारा विद्यालय का संचालन हो रहा है, उसी के बगल में आदिवासी महासभा द्वारा अखड़ा विद्यालय का संचालन किया जाएगा।