--Advertisement--

लड़की की हत्या कर दफना दी थी लाश, दो महीने बाद पुलिस ने यूं खोद निकाली

20 घंटे की मशक्कत के बाद बालू से निकाली विनीता की लाश

Danik Bhaskar | Dec 28, 2017, 02:04 AM IST
जमीन की खुदाई के समय मौके पर मौजूद मजिस्ट्रेट और भुरकुंडा थाना प्रभारी। जमीन की खुदाई के समय मौके पर मौजूद मजिस्ट्रेट और भुरकुंडा थाना प्रभारी।

रांची( झारखंड). पुलिस ने बुधवार को दामोदर नदी तट से विनीता लकड़ा की लाश मजिस्ट्रेट की देखरेख में जमीन से निकाला। लाश पूरी तरह सड़ चुकी थी। दो थानों की पुलिस को विनीता की लाश निकालने में करीब 20 घंटे का वक्त लगा।

हत्या की चश्मदीद थी विनीता

- रांची में पिछले दिनो पंडरा के अविनाश सिंह की चार लोगों ने मिलकर कांके डैम में धक्का देकर हत्या कर दी थी। पुलिस ने पहले यूडी केस दर्ज कर किया था, लेकिन अविनाश के घरवालों के शक के बेस पर पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी।

- जांच के दौरान पुलिस ने घटनास्थल के दिन अविनाश का मोबाइल ट्रेस किया। इसमें पता चला कि अविनाश, बिरसा उरांव, चुन्नु महली, विनीता लकड़ा, छोटका महली और एक अन्य महिला की लोकेशन पतरातू डैम मिला। - जांच के दौरान पुलिस ने बिरसा उरांव, चुन्नु महली और एक महिला को हिरासत में लिया। हिरासत में लिए गए लोगों से कड़ी पूछताछ के बाद मामले का खुलासा हुआ। आरोपियों ने अविनाश सिंह और विनीता की हत्या की बात कबूली। विनीता अविनाश की हत्या की चश्मदीद गवाह थी। जिसके कारण आरोपियों ने मिलकर उसकी हत्या कर दी।

चार लोगो ने की थी विनीता की हत्या : चुन्नू
- रीवर साइड पर विनीता लकड़ा की लाश निकलने के बाद पूछताछ के दौरान आरोपी चुन्नु महली ने बताया कि अक्टूबर माह में अपने तीन अन्य दोस्तों के साथ मिलकर मैंने उसकी हत्या कर दी। हत्या के बाद लाश को ठिकाने लगाने के लिए जमीन में गाड़ दिया।

- उसने बताया कि विनीता की हत्या में बिरसा उरांव, छोटका महली, बिरसा उरांव की तथाकथित पत्नी और वह खुद शामिल था। बिरसा उरांव के कहने पर ही सभी ने मिलकर विनीता की हत्या की।

- चुन्नू रांची में ट्रैक्टर चलाने का काम करता है। सेन्ट्रल सौन्दा में छोटका के सीसीएल कर्मी चाचा के घर आना जाना था। जिसके कारण इलाके के हालात से पूरी तरह वाकिफ था।

लाश देखने लगी लोगों की भीड़

- पुलिस ने खुदाई के दौरान आरोपी चुन्नी को अपने साथ ही रखा और उसी से घटनास्थल की पहचान कराई। इससे पहले लाश निकालने के लिए मंगलवार को पुलिस टीम पहुंची थी। सरकारी प्रक्रिया में काफी रात होने के कारण लाश को नहीं निकाला जा सका।
- पुलिस ने मजिस्ट्रेट की देखरेख में बुधवार को करीब 10 बजे लाश निकालने की प्रक्रिया शुरू की। करीब एक घंटे बाद लाश को जमीन से निकाला गया।

- लाश निकालकर गाेंदा पुलिस पोस्टमार्टम और फोरेंसिक जांच के लिए उसे रांची ले गयी। इधर जमीन के नीचे लाश गाड़ने की खबर फैलते ही सैकड़ों लोग दुमुहान नदी पहुंचे।

वीडियो : अनिल कुमार।