• Hindi News
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • News
  • दो साल पहले शुरू हुई 279 करोड़ की योजना अटकी, बिजली कटौती से नहीं मिलेगी मुक्ति
--Advertisement--

दो साल पहले शुरू हुई 279 करोड़ की योजना अटकी, बिजली कटौती से नहीं मिलेगी मुक्ति

News - डीबी स्टार | जमशेदपुर /रांची केंद्र सरकार की योजना आरएपीडीआरपी का काम कछुआ गति से चल रहा है। एक कंपनी वोल्टाज ने...

Dainik Bhaskar

Apr 01, 2018, 03:30 AM IST
दो साल पहले शुरू हुई 279 करोड़ की योजना अटकी, बिजली कटौती से नहीं मिलेगी मुक्ति
डीबी स्टार | जमशेदपुर /रांची

केंद्र सरकार की योजना आरएपीडीआरपी का काम कछुआ गति से चल रहा है। एक कंपनी वोल्टाज ने काम शुरू किया है। दूसरी कंपनी आईएलएफएस ने अब तक श्रीगणेश ही नहीं किया है। जबकि कंपनी को 31 जनवरी 2019 तक काम को पूरा करना है। सीएम रघुवर दास ने इसके लिए एक मई 2016 को बागुनहातु मैदान में नींव रखी थी। शिलान्यास के दो साल बाद भी काम शुरू नहीं हुआ है। ऐसे में गैर कंपनी क्षेत्र में 2019 में भी बिजली संकट का सामना करने पड़ेगा। बोर्ड ने वोल्टाज व आईएलएफएस को 279 करोड़ का टेंडर दिया है। जिसका वर्क एलॉटमेंट जून 2017 में हुआ। वोल्टाज कंपनी ने नए सब स्टेशन का निर्माण काम शुरू किया है, लेकिन सब स्टेशन का मानगो में विरोध हो रहा है। जबकि सुंदरनगर, जवाहरनगर व मानगो के गजाडीह में नए सब स्टेशन का निर्माण ठेका कंपनी को छह माह में पूरा करना है। इसी प्रकार आरएपीडीआरपी योजना के तहत ठेका कंपनी को दो साल यानि 31 जनवरी 2019 में काम पूरा करने का लक्ष्य है।

सीएम रघुवर दास ने एक मई 2016 को बागुनहातु मैदान में रखी थी नींव

योजना में कौन सा काम कितना हुआ





पुराने सब स्टेशन जिसका विस्तार




अंडरग्राउंड केबलिंग का काम कितने किमी तक

40 किमी तक

योजना होगी पूरी

31 जनवरी 2019 तक

 अप्रैल, मई व जून में ट्रांसफार्मर व हाइटेंशन तार बदलने का काम शुरू होगा। वोल्टाज कंपनी को निर्देश दिया गया है। 2017 में ही ठेका कंपनी के साथ योजना का वर्क ऑर्डर मिलने के बाद समझौता हुआ है। 31 जनवरी 19 तक पूरा करना है।  एएन मिश्रा, महाप्रबंधक, सिंहभूम प्रक्षेत्र

क्या है योजना : केंद्र सरकार ने बिजली आपूर्ति के क्षेत्र में आरएपीडीआरपी योजना शुरू की। इसके तहत यहां 2016 में सीएम रघुवर दास ने योजना का शिलान्यास किया था। योजना के तहत अंडरग्राउंड केबुल, हाइटेंशन 33 हजार केवीए, 11 हजार केवीए ट्रांसमिशन लाइन, ग्रिड व सब स्टेशन का निर्माण समेत जर्जर तार को बदलकर अधिक क्षमता के कंडक्टर से जोड़ने की योजना है। 2019 में योजना का काम पूरा करने का लक्ष्य तय है।

आरएपीडीआरपी योजना : आरएपीडीआरपी योजना पार्ट बी के तहत 279 करोड़ से जमशेदपुर-आदित्यपुर, घाटशिला, मुसाबनी, चाईबासा व चक्रधरपुर के शहरी क्षेत्रों में बिजली के आधारभूत संरचना विकसित होगा। पांचों शहरी इलाके में अंडरग्राउंड तार होने से आंधी, तूफान व अन्य परिस्थितियों में बिजली नहीं कटेगी। गैर कंपनी क्षेत्रों में लागू करने से बिजली आपूर्ति सिस्टम में सुधार हो जाएगा। बिजली चोरी, हूकिंग व अन्य समस्या दूर होने के साथ दुर्घटना पर भी अंकुश लगेगा।

X
दो साल पहले शुरू हुई 279 करोड़ की योजना अटकी, बिजली कटौती से नहीं मिलेगी मुक्ति
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..