Hindi News »Jharkhand »Ranchi »News» आमरण अनशन पर बैठे दो छात्रों की हालत बिगड़ी

आमरण अनशन पर बैठे दो छात्रों की हालत बिगड़ी

छात्रों की हालत बिगड़ने पर डॉक्टर पहुंचे और चेकअप किया। एजुकेशन रिपोर्टर | रांची छात्र आजसू ने वर्तमान स्थानीय...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 01, 2018, 03:50 AM IST

आमरण अनशन पर बैठे दो छात्रों की हालत बिगड़ी
छात्रों की हालत बिगड़ने पर डॉक्टर पहुंचे और चेकअप किया।

एजुकेशन रिपोर्टर | रांची

छात्र आजसू ने वर्तमान स्थानीय नीति व नियोजन नीति में संशोधन की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन आमरण अनशन मोरहाबादी मैदान स्थित राष्ट्रपिता महात्मा गांधी प्रतिमा स्थल के पास तीसरे दिन को भी जारी रहा। इसमें राज्य के सभी जिलों के छात्र आजसू के प्रतिनिधि शामिल हुए हैं।

बुधवार को दो अनशनकारियों की तबियत खराब हो गई। चिकित्सक ने पहले जांच की और सदर हॉस्पिटल में भर्ती करने के लिए कहा। इसके बाद विरोध के बीच दो स्टूडेंट्स को इलाज के लिए सदर अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती किया गया है। इसमें हजारीबाग जिले के उदय महतो औ नीरज कुमार शामिल हैं। कुश साहू ने कहा कि कई और छात्रों का स्वास्थ खराब हो रहा है। ओम वर्मा ने कहा कि सरकार का कोई भी प्रतिनिधि हालचाल लेने नहीं आया है।

स्थानीय नीति नहीं बनने के लिए झामुमो जिम्मेवार

छात्र संघ के प्रदेश अध्यक्ष गौतम सिंह ने कहा कि जब-जब झामुमो को मिला मौका मिला तब झारखंड की जनता को धोखा खाया है। झामुमो की राज्य में चार बार सरकार बनी, लेकिन झामुमो ने स्थानीय नीति और नियोजन नीति को लटकाए रखकर छात्रों का भविष्य अंधकार में डालने का काम किया। उपाध्यक्ष डब्ल्यू महतो ने कहा कि सरकार से अविलंब स्थानीय नीति संशोधन की मांग की है।

डिमांड का समर्थन, सीएम का पुतला फूंका

मांगों का कॉलेज स्टूडेंट्स ने समर्थन किया है। इसमें मारवाड़ी कॉलेज, रामलखन कॉलेज ,डोरंडा कॉलेज के छात्र शामिल हैं। स्टूडेंट्स ने बुधवार शाम आरयू के मुख्य द्वार के समक्ष मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Ranchi News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: आमरण अनशन पर बैठे दो छात्रों की हालत बिगड़ी
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×