• Home
  • Jharkhand News
  • Ranchi
  • News
  • हुजूर, मेरी होली जेल में, पर शुभकामना देते हैं कि आपके दुश्मनों का सर्वनाश हो : लालू
--Advertisement--

हुजूर, मेरी होली जेल में, पर शुभकामना देते हैं कि आपके दुश्मनों का सर्वनाश हो : लालू

दुमका कोषागार से अवैध निकासी के चारा घोटाले मामले आरसी-38 में बुधवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग हॉल में सुनवाई हुई।...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 03:50 AM IST
दुमका कोषागार से अवैध निकासी के चारा घोटाले मामले आरसी-38 में बुधवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग हॉल में सुनवाई हुई। सिविल कोर्ट के वीडियो कांफ्रेंसिंग हॉल में स्पेशल जज शिवपाल सिंह ने आरोपियों की ओर से लॉ पॉइंट पर बहस सुनी। इस दौरान लालू प्रसाद समेत सभी आरोपियों को होटवार जेल से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से पेश किया गया। लालू प्रसाद ने अपने बचाव में खुद बहस की। उन्होंने कोर्ट से कहा- हुजूर तत्कालीन एजी टीएन चतुर्वेदी को इस मामले में आरोपी बनाया जाए। चारा घोटाला के दौरान वही बिहार के तत्कालीन महालेखाकार थे। अगर वे सतर्कता से जांच करते तो इतना बड़ा घोटाला नहीं होता। शुरुआत में ही अवैध निकासी रुक जाती। कोर्ट ने लालू से पूछा, टीएन चतुर्वेदी जीवित हैं या नहीं।

लालू ने कहा- हां हुजूर जीवित हैं। भाजपा वालों ने उन्हें मुझे फंसाने के एवज में इनाम देते हुए राज्यसभा का सदस्य बना दिया है। इसके बाद लालू ने जज से पूछा- हुजूर, कब तक जजमेंट दीजिएगा। जल्दी दे दीजिए। इस बार जरा बढ़िया से जजमेंट लिखिएगा। इस बार मेरी होली तो जेल में ही मनेगी। पर, हम आपके लिए शुभकामना व्यक्त करते हैं कि इस बार की होलिका में आपके सारे दुश्मनों का सर्वनाश हो जाए।

बुधवार को मामले से जुड़े सभी आरोपियों के वकील ने सीबीआई की ओर से की गई बहस का जवाब देते हुए अपना पक्ष रखा। आरोपियों के वकीलों ने हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट द्वारा इस तरह के मामले में पूर्व में दिए गए फैसले की प्रति दाखिल करने के लिए समय मांगा। कोर्ट ने फैसले की प्रति दाखिल करने के लिए 5 मार्च की तिथि निर्धारित की। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग द्वारा पेश हुए आरोपी जगदीश शर्मा की ओर से उनके वकील ने कुछ कागजात दाखिल करने के लिए अनुरोध किया, पर कोर्ट ने सभी कागजात छायाप्रति होने के कारण नहीं स्वीकारा।