• Hindi News
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • News
  • बड़े अफसरों ने दबाव बना कर मकई बादाम खली के फर्जी बिल बनवाए
--Advertisement--

बड़े अफसरों ने दबाव बना कर मकई बादाम खली के फर्जी बिल बनवाए

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 02:10 PM IST

News - डोरंडा कोषागार से फर्जी आवंटन पत्र के आधार पर 139 करोड़ की अवैध निकासी के चारा घोटाला मामले आरसी 47 के तहत सीबीआई के...

बड़े अफसरों ने दबाव बना कर मकई बादाम खली के फर्जी बिल बनवाए
डोरंडा कोषागार से फर्जी आवंटन पत्र के आधार पर 139 करोड़ की अवैध निकासी के चारा घोटाला मामले आरसी 47 के तहत सीबीआई के स्पेशल जज प्रदीप कुमार की अदालत में दो गवाहों के बयान दर्ज कराए गए। पलामू जिले के छतरपुर प्रखंड में पदस्थापित तत्कालीन प्रखंड पशुपालन पदाधिकारी चंद्रभूषण सिंह ने गवाही देते हुए कोर्ट को बताया कि वर्ष 1994-95 में पलामू जिले के तत्कालीन पशुपालन पदाधिकारी डॉ. कामेश्वर सहाय और चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. प्रभात कुमार सिन्हा ने दबाव बनाकर उनसे 4000 क्विंटल पीली मकई और बादाम खली की आपूर्ति के संबंध में प्राप्ति रसीद बनवाई थी। 1995-96 में भी इन्हीं दोनों ने दबाव देकर 15000 क्विंटल पीली मकई और 15000 क्विंटल बादाम खली के साथ-साथ 5000 क्विंटल शकरकंद, 5000 क्विंटल महुआ, 4900 क्विंटल पीस मिल और 4000 क्विंटल मिनरल मिक्सचर की आपूर्ति के संबंध में प्राप्ति रसीद बनवाई। जबकि इन सभी सामग्रियों की आपूर्ति नहीं की गई। गवाह का क्रॉस एग्जामिनेशन भी किया गया।

सीबीआई की ओर से कोर्ट में पेश दूसरे गवाह डॉक्टर प्रसिद्ध सिंह का बयान भी दर्ज कराया गया। उन्होंने कोर्ट को बताया कि जब वे गारू प्रखंड के प्रभार में थे, तो पलामू जिले के पशुपालन पदाधिकारी डॉ. बीएन शर्मा और तत्कालीन चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. प्रभात कुमार सिन्हा ने दबाव बनाकर उनसे 53074 पीली मकई और बादाम खली की आपूर्ति के संबंध में प्राप्ति रसीद ली थी।

इस गवाह ने कहा कि 1992-93 में जब वे लेस्लीगंज में प्रभार में थे, तो इन दोनों अधिकारियों ने 45500 क्विंटल पीली मकई की आपूर्ति के संबंध में प्राप्ति रसीद जबरन बनवाई थी। साथ ही 1993-94 और 1994-95 की अवधि में जब वे डालटनगंज में पदस्थापित थे, तब भी दोनों पदाधिकारियों ने 21000 क्विंटल पीली मकई और बादाम खली की प्राप्ति रसीद ली थी। वर्ष 1995-96 में जब वे छिपादोहर प्रखंड में कार्यरत थे, तब दोनों पदाधिकारियों ने 45000 क्विंटल पीली मकई और खली की आपूर्ति की प्राप्ति रसीद बनवाई। गवाह का क्रॉस एग्जामिनेशन भी हुआ। गवाह ने अपने बयान की प्रति दाखिल की और उसे पहचाना। इस दौरान कोर्ट रूम में मामले के आरोपी लालू प्रसाद, जगदीश शर्मा, आरके राणा आदि मौजूद थे।

X
बड़े अफसरों ने दबाव बना कर मकई बादाम खली के फर्जी बिल बनवाए
Astrology

Recommended

Click to listen..