Hindi News »Jharkhand News »Ranchi »News» सदन में इस बार सबसे कम बोलने की आजादी

सदन में इस बार सबसे कम बोलने की आजादी

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 02:15 PM IST

सत्ता पक्ष और विपक्ष के अड़ियल रवैये से बजट सत्र में सदन में जनता के सवाल नहीं आ पाए। पहली बार बजट सत्र का...
सत्ता पक्ष और विपक्ष के अड़ियल रवैये से बजट सत्र में सदन में जनता के सवाल नहीं आ पाए। पहली बार बजट सत्र का प्रश्नोत्तर काल पूरी तरह बाधित हुआ। सरकार, विभाग और जनता से जुड़े सवालों के अलावा भ्रष्टाचार से जुड़े दर्जनों मुद्दे अनुत्तरित रह गए। दो विनियोग विधेयक के अलावा न तो कोई ध्यानाकर्षण सूचनाएं आयीं, न ही गैर सरकारी संकल्प। दो अल्पसूचित प्रश्नों को छोड़ किसी भी सदस्य के प्रश्न पर सदन के भीतर चर्चा नहीं हुई। सदस्यों के सवालों पर सदन के अंदर संबंधित विभाग के मंत्री का जवाब नहीं आया। जनप्रतिनिधियों के माध्यम से राज्य की सवा तीन करोड़ जनता के सवाल अनुत्तरित रह गए। सत्र की कार्यवाही आठ दिन पूर्व ही अनिश्चित काल के लिए स्थगित करनी पड़ी। वर्ष 2004 के विशेष सत्र सह बजट सत्र को छोड़ दें तो अब तक के इतिहास में आठ दिनों का सबसे कम दिनों का बजट सत्र रहा। हालांकि सरकार ने बजट सत्र में अगले वित्तीय वर्ष का बजट जरूर पास करा लिया।

सात विधेयक सदन में नहीं आ सके

सरकार द्वारा विधानसभा को दी गई सूचना के अनुसार बजट सत्र में जनहित से जुडे सात विधेयक प्रस्तुत किये जाने थे। उनमें मेडिकल प्रोटेक्शन बिल, नगरपालिका संशोधन विधेयक, अनुसूचित जनजाति आयोग के गठन संबंधी विधेयक प्रमुख थे। लेकिन न तो ये विधेयक पेश हो सके और न पास। 30 जनवरी तक विधानसभा को इन विधेयकों की प्रति भी उपलब्ध नहीं करायी जा सकी। इन जरूरी विधेयकों के लिए सरकार को अध्यादेश का सहारा लेना पड़ेगा।

सदस्यों के सवालों पर सदन के अंदर संबंधित विभाग के मंत्री का जवाब भी नहीं आया

2018 में साढ़े तीन घंटे चली विधानसभा

17 जनवरी से 30 जनवरी को स्थगित

कार्य दिवस- 08 दिन

अल्पसूचित प्रश्न 297

तारांकित 660

अतारांकित 101

सिर्फ दो प्रश्नों पर सदन में जैसे तैसे उत्तर हो सकेे

शून्यकाल के लिए आई 104 स्वीकृत सूचनाएं सदन में नहीं पढ़ी जा सकीं

2017 में 17 घंटे 25 मिनट चला बजट सत्र

17 जनवरी 2017 से 2 मार्च 2017

कार्य दिवस 11 दिन

अल्पसूचित प्रश्न 146

तारांकित 771

अतारंकित 127

38 प्रश्नों पर सदन में चर्चा और जवाब आया शून्यकाल के दौरान 56 सूचनाएं ली गयीं

पॉलीटून

2016 में 67 घंटे 20 मिनट चला बजट सत्र

15 फरवरी 2016 से 18 मार्च 2016

कार्य दिवस 23दिन

अल्पसूचित प्रश्न 220

तारांकित 764

अतारंकित 143

48 प्रश्नों पर सदन में चर्चा -जवाब आया शून्यकाल के दौरान 484 सूचनाएं ली

अफसरों को बचाने में अपने विधायक-मंत्री बेगाने

2015 में 93 घंटे 25 मिनट चला बजट सत्र

15 फरवरी 2015 से 30 मार्च 2015

कार्य दिवस 19दिन

अल्पसूचित प्रश्न 281

तारांकित 835

अतारंकित 209

69 प्रश्नों पर सदन में चर्चा और जवाब आया शून्यकाल में 487 सूचनाएं ली गयीं

2014 में 32 घंटे 66 मिनट चला बजट सत्र

19 फरवरी 2014 से 5 मार्च 2014

कार्य दिवस 10 दिन

अल्पसूचित प्रश्न 235 तारांकित 396

अतारांकित 151

33 प्रश्नों पर सदन के भीतर चर्चा और जवाब आया

शून्यकाल में 213 सूचनाएं

राज्य गठन के बाद अब तक चले सत्रों की अवधि

प्रथम विधानसभा (बजट सत्र)

27 फरवरी 2001 से 31 मार्च 2001 21 दिन

15 फरवरी 2002 से 27 मार्च 2002 25 दिन

27 फरवरी 2003 से 27 मार्च 2003 14 दिन

03 जून से 4 जून 2004 (विशेष सत्र) 02 दिन

द्वितीय विधानसभा

10 जून 2005 से 4 जुलाई 2005 20 दिन

28 फरवरी 2006 से 24 मार्च 2006 15 दिन

02 मार्च 2007 से 5 अप्रैल 2007 16 दिन

25 फरवरी 2008 से 27 मार्च 2008 19 दिन

तृतीय विधानसभा

26 फरवरी 2010 से 27 मार्च 2010 19 दिन

28 फरवरी 2011 से 25 मार्च 2011 16 दिन

5 मार्च 2012 से 31 मार्च 2012 18 दिन

19 फरवरी 2014 से 5 मार्च 2014 10 दिन

चतुर्थ विधानसभा

27 फरवरी 2015 से 30 मार्च 2015 19 दिन

15 फरवरी 2016 से 18 मार्च 2016 23 दिन

17 जनवरी 2017 से 2 मार्च 2017 11 दिन

17 जनवरी 2018 से 30 जनवरी 2018 08 दिन

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Ranchi News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: सदन में इस बार सबसे कम बोलने की आजादी
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      रिजल्ट शेयर करें:

      More From News

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×