--Advertisement--

भविष्य में साइंस के ज्ञान का महतम उपयोग होगा

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 02:15 PM IST

News - संत जेवियर्स कॉलेज द्वारा साइंस ऑफ मॉलिक्यूलर मटेरियल्स एंड एनर्जी सिस्टम्स विषयक कार्यशाला का दूसरा दिन...

भविष्य में साइंस के ज्ञान का महतम उपयोग होगा
संत जेवियर्स कॉलेज द्वारा साइंस ऑफ मॉलिक्यूलर मटेरियल्स एंड एनर्जी सिस्टम्स विषयक कार्यशाला का दूसरा दिन विज्ञान के कई महत्वपूर्ण जानकारी तथा भविष्य में साइंस के ज्ञान की महतम उपयोगिता सुनिश्चित करने के साथ दूसरा दिन संपन्न हुआ। बुधवार की सुबह नौ बजे शुरू हुई कार्यशाला में आईआईटी मुंबई के केएल नरसिम्हन ने फिजिक्स, केमेस्ट्री एंड इंजीनियरिंग ऑफ ऑर्गेनिक सोलर सेल्स -II पर विस्तृत प्रकाश डाला। उन्होंने कार्यशाला में उपस्थित आईएएससी, आईएनएसए, एनएएसआई से आए सभी प्रोफेसर का स्वागत किया। उन्होंने इस कार्यशाला के आयोजन को जानकारी बढ़ाने वाला तथा बेहतर भविष्य के लिए एक्सचेंज ऑफ आइडियाज के निमित्त बताया। प्रो. नरसिम्हन ने ऑर्गेनिक सेल, इसके ऑपरेशन तथा इससे संबंधित विभिन्न पहलुओं के बारे में विस्तृत जानकारी दी। हाइड्रोजन तथा कार्बन मॉलिक्यूल्स का उदाहरण देते हुए मूवमेंट ऑफ चार्जेज की जानकारी दी।

आईआईएससी बेंगलुरु के प्रो. एस. रामासेशा ने इलेक्ट्रॉन स्टेटस इन डिवाइस मॉलिक्यूल्स के संबंध में बताया। उन्होंने ऑर्गेनिक सोलर सेल के बैंड्स तथा ऑरबिटल थ्योरी और इसकी उपयोगिता के संबंध में विस्तृत जानकारी दी। आईआईएससी बेंगलुरु की डॉ अंशु पांडेय ने क्वांटम मेकेनिक्स तथा स्पेक्ट्रोस्कोपी के संबंध में जानकारी दी। अयान दत्ता ने 100+ इयर्स ऑफ केमिकल बॉन्डिंग पर विस्तृत जानकारी देते हुए विभिन्न बिंदुओं पर चर्चा की। प्रत्येक विषय पर व्याख्यान के बाद कार्यशाला में उपस्थित विभिन्न संस्थान के स्टूडेंट्स, टीचर्स तथा शोधकर्ताओं ने कई सवाल रखे। जिसका जवाब देते हुए चारों वक्ताओं ने विस्तृत जानकार दी। कार्यशाला के कोऑर्डिनेटर संत जेवियर कॉलेज के बॉटनी एचओडी डॉ. अजय कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि एक फरवरी को कार्यशाला का तीसरे और अंतिम कई महत्वपूर्ण विषय प चर्चा होगी।

X
भविष्य में साइंस के ज्ञान का महतम उपयोग होगा
Astrology

Recommended

Click to listen..