--Advertisement--

आवाज दिल की

अनिल कुमार मिश्र, मोरहाबादी, रांची छोटी-सी है सचमुच मगर यह बात दिल की है/ संभल जाओ ऐ हठधर्मियों आवाज दिल की है/ भारत...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 02:25 PM IST
आवाज दिल की
अनिल कुमार मिश्र, मोरहाबादी, रांची

छोटी-सी है सचमुच मगर यह बात दिल की है/ संभल जाओ ऐ हठधर्मियों आवाज दिल की है/ भारत लेता सदा है काम, दिल से, दिमागों से/ बचे हो इसलिए तुम भी, कि यह आवाज दिल की है

जगाओ मत दिमागों को, रहो औकात में हरदम/ भारत है हमारी मां और प्यारा गीत वंदे मातरम्/ छूना नहीं कुछ भी, हमारे सैनिकों के वास्ते/ ठनका माथा अगर उनका, तो तेरे बंद सारे रास्ते

मिला दे खाक में क्षण में, अगर आ जाएं खुद पे/ मिटा दें नक्शा भी तेरा, अगर अड़ जाएं जिद्द पर/ हमारे देश की सेना, गरजता शेर है समझो/ सुधर जाओ, वरना मिटने का संकल्प ही कर लो।

X
आवाज दिल की
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..