• Home
  • Jharkhand News
  • Ranchi
  • News
  • शहर और ग्रामीण क्षेत्रों में पानी की किल्लत शुरू
--Advertisement--

शहर और ग्रामीण क्षेत्रों में पानी की किल्लत शुरू

चतरा िजले में गर्मी शुरू होते ही नदी-नाले और नलकूपों का जल स्रोत तेजी से घटने लगा है। शहर का एक मात्र जलस्रोत हेरू...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 02:00 AM IST
चतरा िजले में गर्मी शुरू होते ही नदी-नाले और नलकूपों का जल स्रोत तेजी से घटने लगा है। शहर का एक मात्र जलस्रोत हेरू डैम में मात्र दस लाख गैलन पानी बचा है। इटखोरी का महाने नदी और टंडवा का गहरी नदी भी सूख चुकी हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में लघु ग्रामीण जलापूर्ति के लिए बने जलमीनारों में आधा से अधिक बंद है।

हेरू डैम में 10 लाख गैलन पानी बचा है

1372

चापानल डेड पड़े हैं चतरा जिले में । जबकि कुल 477 हैंडपंप मरम्मत के अभाव खराब हैं।

400

चापानलों की फरवरी और मार्च में मरम्मत की गई है। जबकि अब भी 477 चापानल खराब पड़े हैं।

चापानल मरम्मत के लिए 6 वाहन रवाना

खराब पड़े चापानलों और साधारण मरम्मत से ठीक हाेने वाले चापानलों को ठीक करने के लिए जिले भर में 6 वाहन को लगाया गया है।

10 नदियां सूखीं जिनमें हेरू,गहरी, महाने शामिल हैं

500 गांवों में पानी की किल्लत होने लगी है।

इनफोग्राफिक्स

4.77 लाख गैलन जरूरी

दो-तीन दिन के अंतराल पर 4.25 लाख गैलन जल की आपूर्ति की जा रही है।

67 लघु ग्रामीण जलापूर्ति योजना पड़ी हैं ठप।

2 दिनों का पानी बचा है हेरू डैम में। भेड़ी फार्म में कम आता है।