• Home
  • Jharkhand News
  • Ranchi
  • News
  • बारिश से तापमान में आई गिरावट लोगों को गर्मी से मिली राहत
--Advertisement--

बारिश से तापमान में आई गिरावट लोगों को गर्मी से मिली राहत

रविवार की शाम तीन बजे एकाएक मौसम का मिजाज बदल गया। आसमान में बादल छा गए। तेज हवाएं चलने लगी। 4:30 बजे बूंदा-बांदी के...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 02:00 AM IST
रविवार की शाम तीन बजे एकाएक मौसम का मिजाज बदल गया। आसमान में बादल छा गए। तेज हवाएं चलने लगी। 4:30 बजे बूंदा-बांदी के साथ बारिश शुरू हुई। करीब आधा घंटे तक बारिश होती रही। बारिश समाप्त होते ही ठंडी हवाएं चलने लगी। इससे तापमान में गिरावट आई है। तापमान घटने से जहां लोगों ने गर्मी से राहत ली, वहीं किसान बेमौसम बारिश और आंधी से चिंतित हैं। बारिश और आंधी से आम के टिकोरे झड़ गए। महुआ के फल पर भी असर पड़ा है। सरसों, गेहूं, चना आदि फसलों भी प्रतिकूल असर पड़ा है।

चौक-चौराहों पर पसरा रहा सन्नाटा

इटखोरी | रविवार की पूर्व संध्या मौसम ने अचानक करवट बदल लिया।इस बीच हल्की फुल्की बारिश के बीच पत्थर भी जमीन पर आ गिरे।साथ ही मौसम काफी खुशनुमा हो गया। ठंडी हवाओं के प्रवाह से लोगों ने काफी राहत महसूस किया।रुक-रुक कर आसमान में बादलों के बीच हुई गर्जना एवं बिजली की कड़क से लोग काफी डरे सहमे रहे। शाम होते ही चौक चौराहों पर सन्नाटा पसर गया।अधिकांश लोग अपने-अपने घरों में ही दुबके रहना पसंद किए।इस तरह मौसम में अचानक बदलाव को लेकर लोग काफी परेशान भी दिखे। मौसम के बदलने से आम व महुआ का उत्पादन प्रभावित होगा।

टंडवा | बेमौसम वारिश से पुरा प्रखंड ठहर सी गई। दोपहर तीन बजे अचानक रात की तरह हो गई। लोग कुछ समझ पाते देखते ही देखते ओला वृष्टि के साथ वारिश शुरु हो गई। लोग जहां थे वहीं घंटों फंसे रह गए। बेमौसम बारिश ने लोगों को घरों में दुबकने को विवश कर दिया। गुलजार रहने वाले बाजार में सन्नाटा छा गया। बेमौसम बारिश ने जहां गरमी से कुछ राहत दी है, पर बारिश ने दिहाड़ी मजदूर के साथ साथ ठेला खोमचा वालों के अलावा छोटे छोटे ईंट व्यवसायियों को भी काफी नुकसान दे गया।

मौसम हुआ सुहाना।

आंधी से पत्थलगडा में 11 हजार वोल्ट का तार गिरा, बिजली सेवा ठप

पत्थलगडा | तेज आंधी चलने से पत्थलगडा में 11 हजार वोल्ट का तार गिर गया। तार गिरने से पत्थलगडा में विद्युत आपूर्ति बंद है। बरवाडीह से तैसा के बीच 11 हजार वोल्ट बिजली की तार खेतों में गिर गया है। संयोग से उस समय बिजली नहीं थी। किसान यहां काम कर रहे थे। वे बाल बाल बच गए। मौसम में अचानक आए बदलाव, आंधी तूफान और रुक रुक के बारिश होने से आम जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है। पानी गिरने से ईंट का व्यवसाय प्रभावित हुआ है। बदले मौसम से गेहूं की खड़ी फसल, चना, सरसों और अन्य खड़ी फसलों को भी नुकसान होने की संभावना बन रही है।