पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Chandan Tiwari Singer From Bokaro Jharkhand

इंटरनेट पर छाई इनकी आवाज, बचपन में भजन अब भोजपुरी में कर रहीं कमाल

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

धनबाद. बोकारो में पली-बढ़ी हैं चंदन तिवारी मूलरूप से बिहार के भोजपुर जिले से संबंध रखती हैं। चंदन संगीत की पहली गुरू अपनी मां रेखा तिवारी को मानती हैं। इन्हों ने बाद में प्रयागराज संगीत समिति इलाहाबाद से शास्त्रीय संगीत की विधिवत शिक्षा ली है। बचपन से ही स्कूल के कार्यक्रमों और मंदिरों में भजन गाया करती थीं। तब यह सब बचपन के शौक की तरह था, लेकिन बाद में संगीत ही जीवन का मकसद बन गया। संगीत के जानकार उनकी आवाज की खनक और सुर को देखकर भोजपुरी संगीत के क्षेत्र में अगली शारदा सिन्हा देख रहे हैं।

महुआ टीवी के सुर संग्राम और जिला टॉप कार्यक्रम में अपनी गायकी का जलवा बिखेरने वाली बोकारो की चंदन तिवारी ने कम समय में ही लोकसंगीत के चाहने वालों के दिलों में अपनी खास जगह बना ली है। इन दिनों चंदन अपने नए प्रोजेक्ट की वजह से भोजपुरी संगीत जगत में सुर्खियों में हैं। चंदन ने पूरबी संगीत के बेताज बादशाह महेंद्र मिसिर के चुनिंदा गीतों को लेकर पुरबिया तान नाम से गायन की ठेठ शैली में एक नया एलबम किया है, जिसका एक गीत होली के एक दिन पहले महेंद्र मिसिर की जयंती पर लोकराग डॉट कॉम और पुरबिया तान डॉट कॉम वेबसाइट पर जारी किया गया। जिसके बाद वे काफी फेमस हो गई। उनके गाने ने इंटरनेट पर धमाल मचा दिया। इस गाने को महज दो दिनों में 38 हजार लोगों ने ऑनलाइन सुना। यह अपने आप में रिकॉर्ड है।

गे की स्लाइड में पढि़ए चंदन तिवारी से सीधी बात...