मिशन 2019 / विधानसभा चुनाव में गठबंधन नहीं, अकेले 81 सीटों पर लड़ेगी आजसू पार्टी

Dainik Bhaskar

Oct 19, 2018, 03:11 PM IST


पार्टी की केंद्रीय समिति की बैठक के दौरान पदाधिकारियों और सदस्यों के जो विचार आए हैं उसके आधार पर ही पार्टी ने उपरोक्त दोनों निर्णय लिया है। पार्टी की केंद्रीय समिति की बैठक के दौरान पदाधिकारियों और सदस्यों के जो विचार आए हैं उसके आधार पर ही पार्टी ने उपरोक्त दोनों निर्णय लिया है।
X
पार्टी की केंद्रीय समिति की बैठक के दौरान पदाधिकारियों और सदस्यों के जो विचार आए हैं उसके आधार पर ही पार्टी ने उपरोक्त दोनों निर्णय लिया है।पार्टी की केंद्रीय समिति की बैठक के दौरान पदाधिकारियों और सदस्यों के जो विचार आए हैं उसके आधार पर ही पार्टी ने उपरोक्त दोनों निर्णय लिया है।

  • लोकसभा और कोलेबिरा चुनाव पर निर्णय के लिए केंद्रीय कार्यसमिति अधिकृत
  • अबुआ दिसुम अबुआ राज के लिए सुदेश महतो महात्मागांधी जयंती से स्वराज स्वाभिमान यात्रा पर निकलेंगे

रांची.  मिशन 2019 में जुटी आजसू पार्टी ने साफ कर दिया है कि अगले विधानसभा चुनाव में गठबंधन के वर्तमान सहयोगी के साथ मिलकर वह चुनाव नहीं लड़ेगी। राज्य के सभी 81 विधानसभा क्षेत्रों में आजसू पार्टी अकेले चुनाव लड़ेगी। इसके लिए पार्टी के कार्यकर्ता अभी से चुनाव की तैयारी में जुटे जाएंगे। जबकि आगामी लोकसभा चुनाव और कोलेबिरा उपचुनाव के संबंध में निर्णय लेने के लिए पार्टी के केंदीय कार्यसमिति को अधिकृत किया गया। 

केंद्रीय समिति की बैठक के बाद दी मीडिया को जानकारी

  1. पदाधिकारियों और सदस्यों के विचर पर लिया निर्णय

    पार्टी के केंद्रीय मुख्य प्रवक्ता डॉ. देवशरण भगत और पूर्व मंत्री उमाकांत रजक ने गुरुवार को रिम्स सभागार में पार्टी के केंद्रीय समिति की बैठक के बाद मीडिया को उपरोक्त जानकारी दी। कहा कि पार्टी की केंद्रीय समिति की बैठक के दौरान पदाधिकारियों और सदस्यों के जो विचार आए हैं उसके आधार पर ही पार्टी ने उपरोक्त दोनों निर्णय लिया है। लोकसभा चुनाव केंद्र का मामला होता है इसलिए पार्टी ने इसपर निर्णय लेने के लिए अपनी केंद्रीय कार्यसमिति को अधिकृत किया है।

  2. महात्मा गांधी जयंती से स्वराज स्वाभिमान यात्रा पर निकलेंगे सुदेश महतो

    डॉ. भगत और रजक ने कहा कि अपना देश और अपना शासन मिला लेकिन स्वशासन नहीं मिला। अपना शासन, अपना अधिकार और अपना राज्य तभी हासिल किया जा सकता है जब थोपे हुए विचारों और विषयों को हम सिरे से खारिज करेंगे। इन्हें हम तब ही खारिज कर सकेंगे जब किसी राजनीतिक दल, नेता या कार्यकर्ता की मूल भाषा को गढ़ सकें। यह परिभाषा है जनता से जोड़कर, जनता के सवालों के लिए जीना मरना। इसलिए नई सोच, नई ऊर्जा के साथ नया नेतृत्व देने के लिए हम सभी को नए सिरे से मुहिम पर निकलना होगा। इसलिए पार्टी सुप्रीमो सुदेश कुमार महतो अबुआ दिसुम अबुआ राज के लिए महात्मा गांधी जयंती से स्वराज स्वाभिमान यात्रा पर निकलेंगे।

COMMENT