खेल / भारतीय तीरंदाजी महासंघ के अध्यक्ष चुने गए अर्जुन मुंडा, बीवीपी राव को 34-18 वोटों के अंतर से हराया

अर्जुन मुंडा। (फाइल फोटो) अर्जुन मुंडा। (फाइल फोटो)
X
अर्जुन मुंडा। (फाइल फोटो)अर्जुन मुंडा। (फाइल फोटो)

  • अगस्त 2019 में विश्व तीरंदाजी ने दो गुटों की गुटबाजी के कारण राष्ट्रीय महासंघ को कर दिया था निलंबित 
  • अर्जुन मुंडा तीन बार रह चुके हैं झारखंड के मुख्यमंत्री, केंद्र सरकार में वे जनजातीय मामलों के हैं मंत्री

दैनिक भास्कर

Jan 18, 2020, 06:17 PM IST

रांची/नई दिल्ली. केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा आर्चरी एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एएआई) के नए अध्यक्ष बन गए हैं। मुंडा ने विपक्षी बीवीपी राव को 34-18 वोटों के अंतर से हराया। अर्जुन मुंडा का कार्यकाल चार वर्षों का होगा। वहीं, हरियाणा के कैप्टन अभिमन्यू शर्मा ने ने उपाध्याक्ष का पद हासिल किया है जबकि उत्तराखंड के राजेंद्र सिंह तोमर कोषाध्यक्ष के पद पर चुने गए हैं। दिल्ली हाईकोर्ट के निर्देश पर भारतीय तीरंदाजी महासंघ का चुनाव शनिवार को नई दिल्ली में हुआ। मुंडा ने पिछले साल भी इस पद के लिए दावेदारी की थी, लेकिन तकनीकी कारणाें से उनका नामांकन रद्द हाे गया था। 

तीरंदाजी से रहा है केंद्रीय मंत्री का जुड़ाव
केंद्रीय मंत्री सह झारखंड तीरंदाजी संघ के अध्यक्ष अर्जुन मुंडा का तीरंदाजी से जुड़ाव रहा है। मुंडा के प्रयास से 2006 में सरायकेला के दुगुनी में झारखंड सरकार कल्याण विभाग की ओर से तीरंदाजी एकेडमी की स्थापना की गई थी। यहां विशेषकर जनजातीय तीरंदाजों को तराशा जाता है। मुंडा के प्रयास से खरसावां के अर्जुना स्टेडियम में भी एक तीरंदाजी सेंटर चलता है। सरायकेला-खरसावां जिला तीरंदाजी संघ की कमान अर्जुन मुंडा की पत्नी मीरा मुंडा संभाल रखी है।

दिल्ली हाईकोर्ट के निर्देश पर चुनाव क्यों
भारतीय तीरंदाजी को अगस्त 2019 में विश्व तीरंदाजी ने दो गुटों की गुटबाजी के कारण राष्ट्रीय महासंघ को निलंबित कर दिया था। इनमें से एक गुट ने दिल्ली और दूसरे ने चंडीगढ़ में चुनाव कराए थे जो कि अंतरराष्ट्रीय संस्था के दिशानिर्देशों का स्पष्ट उल्लंघन था। दिल्ली उच्च न्यायालय ने चुनावों के लिये पी के त्रिपाठी को चुनाव अधिकारी नियुक्त किया है। दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा अक्टूबर में पारित आदेश के अनुसार अध्यक्ष, वरिष्ठ उपाध्यक्ष, उपाध्यक्ष (आठ पद), महासचिव, संयुक्त सचिव (सात पद) और कोषाध्यक्ष पदों के लिए चुनाव होंगे। कुल 31 राज्य संघ मतदाता सूची का हिस्सा हैं लेकिन उत्तर प्रदेश, बिहार, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, जम्मू कश्मीर और नगालैंड का प्रतिनिधित्व करने वाली इकाइयों का नाम सूची में नहीं है।

तीन बाद झारखंड के मुख्यमंत्री रह चुके हैं मुंडा
अर्जुन मुंडा तीन बार झारखंड के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। केंद्र सरकार में वे जनजातीय मामलों के मंत्री हैं। मोदी सरकार-2 में अर्जुन मुंडा झारखंड से इकलौते मंत्री हैं। 1995 में पहली बार खरसावां से विधायक बने मुंडा ने 2014 में जमशेदपुर संसदीय चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया, मगर इसके बाद हुए विधानसभा चुनाव में वे खरसावां सीट से चुनाव हार गए। हालांकि वे संगठन में लगातार सक्रिय रहे। लोकसभा चुनाव 2019 में खूंटी से पूर्व सांसद करिया मुंडा का टिकट काट अर्जुन मुंडा को टिकट दिया गया, जिसमें वे हारते-हारते महज 1445 वोट से जीते थे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना