Hindi News »Jharkhand »Ranchi »News» Bail Plea Of Lalu Prasad Yadav News And Update

लालू की जमानत अर्जी पर हाईकोर्ट ने कहा- बीमार हैं तो अस्पताल में रहें, ठीक हैं तो जेल... घर में कैसे रह रहे

इलाज के लिए लालू को दिए गए जमानत की अवधि 17 अगस्त को समाप्त हो रही है।

Dainikbhaskar.com | Last Modified - Aug 11, 2018, 09:34 AM IST

लालू की जमानत अर्जी पर हाईकोर्ट ने कहा- बीमार हैं तो अस्पताल में रहें, ठीक हैं तो जेल... घर में कैसे रह रहे

रांची.हाईकोर्ट ने बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद के जमानत के दौरान घर में रहने पर नाराजगी जताई है। कोर्ट ने कहा-लालू प्रसाद सजायाफ्ता हैं। तबियत खराब है तो वह अस्पताल में रहें। ठीक हैं तो जेल में। घर पर रहकर सुविधाएं नहीं ले सकते। जस्टिस अपरेश सिंह की कोर्ट ने शुक्रवार को यह मौखिक टिप्पणी की। लालू प्रसाद की ओर से फिर जमानत अवधि तीन महीने बढ़ाने की मांग की गई है। याचिका में कहा गया है कि उनका इलाज चल रहा है। 14 अगस्त को जमानत की अवधि खत्म हो जाएगी। इसलिए उनकी जमानत अवधि तीन महीने के लिए बढ़ाई जाए।

कोर्ट ने कहा-सीबीआई मेडिकल रिपोर्ट जांच कर पक्ष रखे, फिर होगा जमानत पर फैसला
सुनवाई के दौरान लालू प्रसाद की ओर से कोर्ट को बताया गया कि उनका इलाज मुंबई के एशियन हार्ट इंस्टीट्यूट में कराया जा रहा है। छह अगस्त को उन्हें भर्ती कराया गया। उनका शुगर लेवल कंट्रोल नहीं हो रहा है। रोजाना 70 यूनिट इंसुलिन दी जा रही है। किडनी की भी बीमारी है। इसलिए जमानत अवधि बढ़ाई जाए। सीबीआई ने इसका विरोध करते हुए उन्हें अस्पताल में भर्ती कराने की बात कही। दोनों पक्षों को सुनने के बाद कोर्ट ने सीबीआई को लालू प्रसाद की मेडिकल रिपोर्ट की जांच कर इस पर अपना पक्ष रखने को कहा। अगली सुनवाई 17 अगस्त को होगी।

पहले छह हफ्ते की बेल, फिर बढ़ती गई

लालू प्रसाद को इलाज के लिए 11 मई को छह हफ्ते की औपबंधिक जमानत दी गई थी। फिर इसे 14 अगस्त तक बढ़ा दी गई। लालू का पिछले महीने एशियन हार्ट इंस्टीट्यूट में ऑपरेशन हुआ था। इसके बाद दोबारा इलाज के लिए वह 6 अगस्त को वहां भर्ती हुए हैं।

चारा घोटाले से जुड़े चार मामलों में लालू को मिली है 14 साल सश्रम कारावास की सजा
लालू प्रसाद को चारा घोटाले में देवघर, दुमका और चाईबासा ट्रेजरी से जुड़े चार मामलों में सीबीआई स्पेशल कोर्ट ने 14 साल सश्रम कारावास की सजा सुनाई है। दुमका ट्रेजरी से फर्जी आवंटन पत्र के आधार पर 3.13 करोड़ रुपए की निकासी के मामले में उन्हें सबसे ज्यादा 14 साल की सजा सुनाई गई है। लालू प्रसाद ने निचली अदालत के सभी फैसलों को हाईकोर्ट में चुनौती दी है। इसमें उन्होंने कहा है कि निचली अदालत ने गलत तथ्यों के आधार पर उन्हें सजा दी है, वे निर्दोष हैं। हाईकोर्ट में सुनवाई चल रही है। कोर्ट ने अपील याचिका पर प्रारंभिक सुनवाई कर लालू प्रसाद को औपबंधिक जमानत दी है। यह सुविधा उन्हें उनकी बीमारी की दशा को देखते हुए दी गई है। लालू प्रसाद का प्रारंभिक इलाज रिम्स में हुआ था। डाक्टरों की सलाह पर उन्हें फिर दिल्ली एम्स में भेजा गया। इसके बाद उनके आग्रह पर कोर्ट ने उन्हें मुंबई स्थित अस्पताल में इलाज कराने की छूट दी थी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×