बिटोसा टेक्नोक्रेट्स मीट में बीआईटी मेसरा के 1958 से लेकर अब तक के पूर्ववर्ती छात्रों का जुटान

Ranchi News - बीआईटी के पूर्व डायरेक्टर डाॅ. एचसी पांडे बोले-हर भारतीय 2 यूरोपीय के बराबर, अपनी अभियांत्रिक कौशल को कम न आंकें ...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 07:50 AM IST
Ranchi News - beta technocrats meet in bit mesra from 1958 till now the gathering of students
बीआईटी के पूर्व डायरेक्टर डाॅ. एचसी पांडे बोले-हर भारतीय 2 यूरोपीय के बराबर, अपनी अभियांत्रिक कौशल को कम न आंकें

उद्यमी बन कर नौकरियां देने का सुख कहीं ज्यादा होता है : प्रमोद थपरिया

हम सभी अपने अभियांत्रिक कौशल को कम न आंके

डॉ. पांडेय ने कहा कि हम अपनी अभियांत्रिकी कौशल को कम नहीं आंकें। बीआईटी में पढ़ रहे स्टूडेंट्स अपने पूर्ववर्ती छात्रों की उपलब्धि से सीखें व उनके कांटेक्ट में रहें। मौके पर बिटाेसा के पूर्व अध्यक्ष सुशील लोहिया, वाईटेक थापरिया समूह के अध्यक्ष प्रमोद थपरिया, बीआईटी के एक्स-डीन गोपाल पाठक, एमएसटीसी के अध्यक्ष बीबी सिंह, बिटाेसा के अध्यक्ष और निदेशक (विपणन) एचइसी राणा एस चक्रवर्ती आदि मौजूद थे।

बहुतायत इंजीनियरिंग कॉलेजों ने गुणवत्ता को कमजोर किया

प्रमोद थपरिया ने कहा कि नवोदित उद्यमियों को समझाना होगा कि पथ फूलों की सेज नहीं है। एक उद्यमी बनकर नौकरियां देने का सुख कहीं ज्यादा है। वहीं गोपाल पाठक ने 1825 से आज तक के इंजीनियरिंग पर प्रकाश डाला। कहा कि रुड़की भारत का पहला इंजीनियरिंग कॉलेज है। आज देश में 4500 से अधिक इंजीनियरिंग कॉलेजों की स्थापना ने इंजीनियरों की गुणवत्ता कमजोर कर दिया है। आज नौकरियों की कोई कमी नहीं है, लेकिन सही योग्यता की कमी है। बीबी सिंह ने पुरानी यादों को ताजा किया। मौके पर आयोजन समिति के अध्यक्ष एस जयपुरियार, विश्वजीत आदि मौजूद थेे।

X
Ranchi News - beta technocrats meet in bit mesra from 1958 till now the gathering of students
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना