पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

भाजपा प्रतिनिधिमंडल का आरोप- धारा 144 लगा बुरुगुलीकेरा जाने से रोका, धरने पर बैठे सांसद

6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सड़क पर धरना देते भाजपा प्रतिनिधिमंडल के सदस्य।
  • घटना स्थल पर सांसदों को रोका तो जमकर नारेबाजी, सिर्फ मांगी पांच घंटे की मोहलत
  • भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने बनाई है छह सांसदों की जांच टीम
Advertisement
Advertisement

चाईबासा. बुरुगुलीकेरा में सात लोगों के नरसंहार की जांच करने भाजपा के छह सांसदों की टीम नहीं पहुंच पाई। भाजपा के केंद्रीय अध्यक्ष जेपी नड्‌डा के निर्देश पर गठित अलग-अलग राज्यों के सांसद सहित भाजपा प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा की टीम को गांव जाने से रोक दिया गया। पुलिस ने कभी सुरक्षा का हवाला दिया तो कभी धारा 144 लागू होने की बात कही। करीब सात घंटे तक सांसदों और पुलिस में बहस होती रही। सांसदों की टीम ने कराईकेला थाना के सामने और सोनुवा थाना के सामने धरना प्रदर्शन किया और जोरदार नारेबाजी की। इससे कारण दोपहर 11 बजे से डेढ़ घंटे तक चक्रधरपुर रांची एनएच-75 जाम रहा। वाहनों की लंबी कतार लग गई।

प्रशासन ने कहा... आप आगे न जाएं निषेधाज्ञा लागू है
कराईकेला थाना के सामने वाहनों को पुलिस ने रोक दिया। टीम को कहा गया कि उन्हें आगे जाने की इजाजत नहीं मिलेगी। रोकने की वजह पूछे जाने पर जिले के तीन प्रखंड क्षेत्रों में धारा 144 लागू होने का हवाला दिया गया और कहा गया कि 26 जनवरी तक धारा 144 लागू रहेगी। रोक दिए जाने के बाद भाजपा के सभी नेता थाना के सामने ही बीच सड़क पर बैठ गए। यह देखकर एसडीओ प्रदीप प्रसाद, एएसपी नाथू सिंह मीणा और डीएसपी अमर पांडेय एवं सुधीर कुमार पहुंचाने पहुंचे, लेकिन बात नहीं बनी। 

मजबूरन वापस लौटे सभी सांसद
सोनुवा में फिर से रोक दिया गया। पुलिसकर्मियों से बहस हुई। थाने के सामने ही धरने पर बैठ गए। शाम छह बजे प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा के साथ गुजरात के सांसद जसवंत सिंह भाभोर, राज्यसभा सदस्य समीर उरांव, महाराष्ट्र के सांसद भारती पवार, छत्तीसगढ़ के सांसद गोमती साय सहित सभी दल वापस लौट गए।

पुलिस घेरे में चक्रधरपुर पहुंचे सांसद
पोड़ाहाट एसडीओ ने हाथ जोड़कर उठने का निवेदन किया। किसी तरह से बात बनी फिर टीम वहां से निकली। एसडीओ पोड़ाहाट प्रदीप प्रसाद, हेडक्वार्टर डीएसपी सुधीर कुमार व एसडीपीओ पोड़ाहाट एन मीणा ने सांसदों के पूरे काफिले को अपने घेरे में लेकर चक्रधरपुर ले आए। इस दौरान बहस होती रही।

26 जनवरी तक निषेधाज्ञा लागू
टीम के सदस्यों ने जमकर नारेबाजी की। प्रशासन से सिर्फ पांच घंटे की मोहलत मांगी। आग्रह किया कि टीम में अलग-अलग प्रदेश के सांसद हैं। दोबारा आने में दिक्कत होगी। सांसदों के आग्रह को प्रशासनिक अफसराें ने नाकार दिया।

जांच टीम में ये थे शामिल

  • गुजरात के सांसद जसवंत सिंह
  • महाराष्ट्र के सांसद भारती पवार
  • छतीसगढ़ के सांसद गोमती साय
  • पश्चिम बंगाल के सांसद जाॅन बारला
  • झारखंड के राज्यसभा सांसद समीर उरांव
  • खूंटी विधायक नीलकंठ सिंह मुंडा शामिल हैं।

संसद में उठेगा मामला: महाराष्ट्र सांसद
जांच टीम की सदस्य भारती पवार ने कहा कि टीम को रोका जाना दर्शाता है कि मामले में सरकार की मंशा सही नहीं है। मारे गए लोगों के परिजन दहशत में हैं और वे कुछ नहीं बोल पा रहे हैं। सरकार मामले की लीपापोती में कर रही है।

पत्थलगड़ियों को सरकार का आशीर्वाद
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा ने कहा कि हेमंत सरकार की घोषणा से पत्थलगड़ी समर्थकों का मनोबल ऊंचा हो गया है, क्योंकि उन्हें सरकार की आेर से आशीर्वाद मिल गया है।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज पिछले समय से आ रही कुछ पुरानी समस्याओं का निवारण होने से अपने आपको बहुत तनावमुक्त महसूस करेंगे। तथा नजदीकी रिश्तेदार व मित्रों के साथ सुखद समय व्यतीत होगा। घर के रखरखाव संबंधी योजनाओं पर भ...

और पढ़ें

Advertisement