Hindi News »Jharkhand »Ranchi »News» 46 Years Later Baba Vaidyanath Dham Story

46 साल बाद बाबा वैद्यनाथ का होगा महाश्रृंगार, जलार्पण के लिए जुटेंगे हजारों श्रद्धालु

इस बार अक्षय तृतीया के दिन 46 साल बाद बाबा बैजनाथ का महाश्रृंगार किया जाएगा।

Dainikbhaskar.com | Last Modified - Apr 17, 2018, 06:48 PM IST

  • 46 साल बाद बाबा वैद्यनाथ का होगा महाश्रृंगार, जलार्पण के लिए जुटेंगे हजारों श्रद्धालु
    अक्षय तृतीया के दिन 46 साल बाद बाबा बैजनाथ का महाश्रृंगार किया जाएगा।-फाइल

    देवघर(झारखंड)। इस बार अक्षय तृतीया के दिन 46 साल बाद बाबा बैजनाथ का महाश्रृंगार किया जाएगा। इसे देखने के लिए लोगों में काफी उत्सुकता है। 46 साल से बाबा का महाश्रृंगार बंद था, इस कारण कई ऐसे लोग हैं जो पहली बार बुधवार को महाश्रृंगार देखेंगे।

    1970 से गद्दी खाली रहने के कारण महाश्रृंगार पूजा थी बंद

    प्राचीन काल से ही अक्षय तृतीया के दिन मंदिर महंथ सरदार पंडा द्वारा बाबा बैजनाथ का महाश्रृंगार किया जाता था। नौवें सरदार पंडा भवप्रीतानंद ओझा की मृत्यु के बाद 1970 से गद्दी खाली रहने के कारण महाश्रृंगार पूजा भी बंद कर दी गई थी। पिछले साल जुलाई 2017 में बाबा वैद्यनाथ मंदिर के दसवें सरदार पंडा के रूप में अजीतानंद ओझा की ताजपोशी होने के बाद इस बार मंदिर महंथ सरदार पंडा अजीतानंद ओझा द्वारा बाबा बैजनाथ का महाश्रृंगार किया जाएगा।

    शाम को होगा महाश्रृंगार

    सरदार पंडा के सुपुत्र सच्चिदानंद ओझा ने बताया कि अक्षय तृतीया पर बुधवार की शाम को बाबा के महाश्रृंगार के बाद बाबा बैजनाथ का सुविचार विधि से पूजन किया जाएगा। इसके बाद बाबा की पूजा होगी। महाश्रृंगार पूजा के दौरान सरदार पंडा के परिवार के सदस्यों के अलावा पुरोहित समाज के लोग मौजूद रहेंगे। महाश्रृंगार को लेकर एक दिन पूर्व मंगलवार को सभी 22 मंदिरों में स्थापित प्रतिमा की विशेष सफाई की गई है। बताया जाता है कि अक्षय तृतीया पर बाबा पर जलाभिषेक करने के लिए काफी संख्या में श्रद्धालु जुटेंगे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Ranchi News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: 46 Years Later Baba Vaidyanath Dham Story
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×