--Advertisement--

पत्थलगड़ी मामले पर सीएस न की मीटिंग, खूंटी के डीसी और एसपी भी हुए शािल

पत्थलगड़ी मामले पर सीएस न की मीटिंग, खूंटी के डीसी और एसपी भी हुए शािल

Danik Bhaskar | Mar 13, 2018, 11:59 AM IST
पत्थलगढ़ी को लेकर मुख्यमंत्र पत्थलगढ़ी को लेकर मुख्यमंत्र

रांची। पत्थलगढ़ी की आड़ में संविधान की गलत व्याख्या कर स्थानीय लोगों को भड़कानेवाले तत्वों को सरकार ने चिन्हित कर लिया है। उनके विरुद्ध सरकार जल्द कार्रवाई करेगी। ऐसे असामाजिक तत्व सरकार की विकास योजनाओं के विरुद्ध स्थानीय युवकों को गुमराह कर रहे हैं। पत्थलगढ़ी को लेकर मुख्यमंत्री रघुवर दास की अध्यक्षता में हुई बैठक के बाद गृह एवं कैबिनेट विभाग के प्रधान सचिव एसकेजी रहाटे ने दी।

उन्होंने बताया कि बैठक में मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी, भू-राजस्व सचिव केके सोन, एडीजी आरके मलिल्क, एडीजी आशीष बात्रा व खूंटी के डीसी-एसपी उपस्थित थे। इससे पहले बैठक के बाद सुधीर त्रिपाठी ने भी कहा कि ऐसे तत्वों के विरुद्ध सरकार सख्ती से पेश आएगी।

रोजगार से जोड़ने के लिए विशेष रूप से चर्चा की गई
-आरके रहाटे ने बताया कि बैठक में पत्थलगढ़ी वाले इलाकों के स्थानीय युवकों को रोजगार से जोड़ने के लिए विशेष रूप से चर्चा की गई। मुखिया व ग्राम प्रधानों के साथ लगातार संवाद करने पर भी जोर दिया गया। सरकारी मशीनरी को विकास योजनाओं का जोर-शोर से प्रचार करने का निर्देश दिया गया। मुखिया व ग्राम प्रधानों की बैठक बुलाई जाएगी।
-स्थानीय युवाओं से भी भ्रामक प्रचार से बचने का आह्वान किया जाएगा। उनसे आग्रह किया जाएगा कि असामाजिक तत्वों से बहकावे में वे नहीं आएं। इधर, सूत्रों के अनुसार बैठक में पत्थलगढ़ी की आड़ में अफीम की खेती को संरक्षित करने की योजना पर भी चर्चा हुई। स्थानीय प्रशासन को अफीम की खेती नष्ट करने का सख्त निर्देश दिया गया।