Hindi News »Jharkhand »Ranchi »News» Candidates In Protest Against The Increase In The Number Of Candidates In The PT Of Six Civil Services

सिक्स सिविल सेवा की पीटी में अभ्यर्थियों की संख्या में वृद्धि के विरोध में अभ्यर्थियों का मार्च

सिक्स सिविल सेवा की पीटी में अभ्यर्थियों की संख्या में वृद्धि के विरोध में अभ्यर्थियों का मार्च

Gupteshwar Kumar | Last Modified - Feb 15, 2018, 07:35 PM IST

रांची। झारखंड लोक सेवा आयोग (जेपीएससी) द्वारा आयोजित सिक्स सिविल सेवा की पीटी का एक बार फिर संशोधित रिजल्ट जारी किया जाएगा। इससे पीटी पास होने वाले अभ्यर्थियों की संख्या बढ़कर 40 हजार हो जाएगी। गुरुवार को पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत अभ्यर्थियों ने पीटी रिजल्ट में पास छात्रों की संख्या में विरोध मार्च किया।


आदिवासी छात्र संघ, केंद्रीय सरना समिति, आदिवासी विकास परिषद, आदिवासी युवा मोर्चा, आदिवासी मूलवासी संगठन के बैनर तले अभ्यर्थियों ने विरोध जताया। बिरसा मुंडा पुराना जेल से होते हुए बिरसा मुंडा समाधि स्थल तक पद यात्रा की। इनका कहना था कि किसी भी स्थिति में रिक्त पद से 15 गुना से अधिक पीटी में रिजल्ट नहीं चाहिए। मार्च का नेतृत्व कर रहे संजय महली ने कहा कि नियुक्ति परीक्षा में आरक्षण और स्थानीय नीति की अनदेखी की जा रही है। सिक्स सिविल सेवा की पीटी इसका उदाहरण है।


सरकार द्वारा गठित कमेटी से सभी नियुक्ति परीक्षाओं पर रोक लगाने की मांग की है। आरक्षण नियमावली का पालन करते हुए जेपीएससी पीटी का संशोधित रिजल्ट जारी किया जाए। इसमें पास छात्रों की संख्या पद का 15 गुना से अधिक नहीं होनी चाहिए। कहा कि अब कोई भी सरकार एसटी, एससी, ओबीसी के संवैधानिक प्रावधानों का उल्लंघन कर राज नहीं कर सकती है। मार्च में मुख्य रुप से अजय टोप्पो, सुरेंद्र पासवान, अजय तिर्की, निरंजन, विपिन, कुलदीप, अजीत लकड़ा, सूरज टोप्पो, मनोज उरांव समेत अन्य थे।



दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×