--Advertisement--

मतदाताओं को मताधिकार से वंचित करने का प्रयास हुआ : झामुमो

मतदाताओं को मताधिकार से वंचित करने का प्रयास हुआ : झामुमो

Danik Bhaskar | Apr 16, 2018, 06:42 PM IST
डाॅ. ममता राय।-फाइल डाॅ. ममता राय।-फाइल

रांची। जमशेदपुर निवासी एम्स की डॉक्टर ममता राय की संदिग्ध मौत के मामले की सीबीआई जांच कराने के लिए केरल सरकार से अनुरोध किए जाने के प्रस्ताव पर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने मंगलवार को स्वीकृति प्रदान कर दी। 19 जनवरी को कोच्चि के होटल सीनेट में पंखे से झूलता उनका शव बरामद किया गया था। इस संबंध में सेंट्रल पुलिस स्टेशन एर्नाकुलम थाना कांड संख्या 195/2018 दर्ज किया गया था। डीएवी श्यामली में 12वीं की टॉपर रही डॉ. ममता एक सेमिनार में हिस्सा लेने के लिए दिल्ली से कोच्चि गई थी।

पिता अरविंद राय ने की थी सीबीआई जांच की मांग
आदित्यपुर बाबा कुटी मुहल्ले की रहने वाली डॉ. ममता राय के पिता अरविंद राय ने बेटी की हत्या करने की आशंका जताते हुए झारखंड सरकार एवं केरल सरकार से सीबीआई जांच की मांग की थी। अंतिम बार ममता ने अपने परिजनों को काफी अवसाद में होने और जिंदगी से क्विट करने का मैसेज भेजा था। पिता अरविंद राय ने कहा था कि ममता के आत्महत्या की सूचना के दो घंटे पूर्व उसने हंसी खुशी अपने परिजनों से बात की थी। एम्स में पीजी कर रही डॉ. ममता अस्पताल में बतौर न्यूरोलॉजिस्ट कार्यरत भी थी।

तीन मित्र चिकित्सकों पर लगा था आरोप
अरविंद राय ने बताया कि ममता पर साथी डॉक्टर संजय सिंह कई दिनों से शादी का जबरन दबाव डाल रहा था। डॉ. आलोक और ममता की सहयोगी नेहा भी डॉ. संजय के साथ मिले हुए थे। पिता के इस आरोप पर सेंट्रल पुलिस स्टेशन एर्नाकुलम में तीनों आरोपी के विरुद्ध नामजद प्राथमिकी दर्ज है।