--Advertisement--

लोकसभा-विधानसभा चुनाव एक साथ कराने पर ष्टरू राजी, संभावना तलाशने के लिए कमेटी बनेगी

लोकसभा-विधानसभा चुनाव एक साथ कराने पर ष्टरू राजी, संभावना तलाशने के लिए कमेटी बनेगी

Dainik Bhaskar

Mar 04, 2018, 06:41 PM IST
प्रेस कॉन्फ्रेंस करते मुख्यम प्रेस कॉन्फ्रेंस करते मुख्यम

रांची। मुख्यमंत्री रघुवर दास झारखंड में लोकसभा के साथ विधानसभा का चुनाव कराने पर राजी हैं। भाजपा के प्रदेश मुख्यालय में रविवार को मीडिया से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा देश स्तर पर एक साथ चुनाव कराने की पक्षधर है। झारखंड में इसकी संभावना तलाशने और माहौल तैयार करने के लिए एक सीनियर मंत्री के नेतृत्व में कमेटी का गठन किया जाएगा।

मुख्यमंत्रियों की ली गई थी राय

उन्होंने कहा- कमेटी में एक रिटायर्ड आईएएस, चुनाव कार्य से जुड़े रिटायर्ड अफसर और समाज के बुद्धिजीवियों को शामिल किया जाएगा। गौरतलब है कि 28 फरवरी को नई दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की उपस्थिति में मुख्यमंत्री परिषद की बैठक हुई थी, जिसमें भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री शामिल हुए। इसमें देश में एक साथ चुनाव कराने पर मुख्यमंत्रियों की राय ली गई थी।

चुनावी खर्च और समय की बर्बादी रुकेगी
-सीएम ने कहा कि नगर निकाय, जिला परिषद, विधानसभा और लोकसभा का चुनाव हरेक पांच साल में एक साथ होने से चुनावी खर्च और समय की बर्बादी रुकेगी। अभी हरेक तीन महीने में कहीं न कहीं चुनाव होता है, इससे विकास कार्य बाधित होता है। एक साथ चुनाव हो जाने पर विकास कार्यों के लिए ज्यादा समय मिलेगा। लेकिन इसके लिए आम सहमति बनाने की जरूरत है। सभी राजनीतिक दलों से बातचीत की जाएगी। वे सकारात्मक पहल करें, ताकि देश तेजी से तरक्की कर सके।

अन्य राज्यों की तरह तेजी से होगा वहां भी विकास
-पूर्वोत्तर राज्यों में भाजपा की जीत पर उन्होंने कहा कि पार्टी अजेय भारत की ओर बढ़ रही है। देश की जनता क्षेत्रवाद, संप्रदायवाद, जातिवाद से उपर उठकर विकासवाद की राजनीति को स्वीकार कर रही है। पूर्वोत्तर के राज्य विकास से अछूते थे, कांग्रेस ने वहां की जनता का शोषण किया। अब जनता ने मोदी और शाह के विकास के मंत्र को स्वीकार किया है, तो वहां भी अन्य राज्यों की तरह तेजी से विकास होगा। देश के करोड़ों लोग कांग्रेस मुक्त भारत बनाने में जुट गए हैं। झूठ और फरेब की राजनीति अब नहीं चलेगी। जनता को विश्वास हो गया है कि देश से गरीबी और बेरोजगारी भाजपा ही दूर कर सकती है।

व्यवस्था में कमी हो सकती है, नीयत में नहीं
-एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि शासन और व्यवस्था में कमी हो सकती है, लेकिन सरकार की नीयत में कमी नहीं है। 14 साल में जो काम नहीं हुए, उन्हें तीन साल में भाजपा सरकार ने किया। यहां डॉक्टर की कमी है, कैंपस सलेक्शन कर इसे पूरा कर रहे हैं। राज्य को विकसित होने के लिए कम से कम 10 साल का वक्त चाहिए, वह भी स्थिर सरकार के साथ। स्थानीय लोगों की नियुक्ति में गड़बड़ी के संबंध में पूछे जाने पर कहा कि सूचना के अधिकार के तहत काम निकलवा लें, पता चल जाएगा किस जिले में कितने स्थानीय लोगों की नियुक्ति हुई है। मंत्री सरयू राय के बयानों से क्या सरकार असहज महसूस करती है? इसके जवाब में कहा कि ऐसा नहीं है, सरकार मजबूती से अपना काम कर रही है।

X
प्रेस कॉन्फ्रेंस करते मुख्यमप्रेस कॉन्फ्रेंस करते मुख्यम
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..