रांची

--Advertisement--

मुख्यमंत्री ने मां भद्रकाली मंदिर में की पूजा-अर्चना, कहा-तीन धर्मों के संगम स्थल मां भद्रकाली मंदिर परिसर का ५०० करोड़ में होगा समेकित विकास

मुख्यमंत्री ने मां भद्रकाली मंदिर में की पूजा-अर्चना, कहा-तीन धर्मों के संगम स्थल मां भद्रकाली मंदिर परिसर का ५०० करोड़ में होगा समेकित विकास

Dainik Bhaskar

Dec 16, 2017, 06:09 PM IST
मास्टर प्लान के तहत मां भद्रका मास्टर प्लान के तहत मां भद्रका

रांची। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि राज्य की चहुंमुखी विकास हेतु सरकार उद्योग, कृषि, आईटी व पर्यटन क्षेत्र के विकास को प्राथमिकता दे रही है। सरकार सांस्कृतिक व इको टूरिज्म को बढ़ावा देकर राज्य के पर्यटन स्थलों को विश्वस्तरीय पर्यटन स्थल का स्वरूप दे रही है। इससे गरीबी तो खत्म होगी ही साथ ही बेरोजगारों को रोजगार भी मिलेगा। उन्होंने कहा कि तीन धर्मों के संगम स्थल इटखोरी को 500 करोड़ की लागत से विश्वस्तरीय पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जा रहा है। मुख्यमंत्री इटखोरी के डाकबंगला में आयोजित इटखोरी पर्यटन विकास मास्टर प्लान की समीक्षा बैठक के बाद शनिवार को मीडिया को संबोधित कर रहे थे।

इटखोरी में विश्व का सबसे ऊंचा बौद्ध प्रेयर व्हील का निर्माण किया जायेगा

सीएम ने कहा कि इस क्षेत्र का पूरा मास्टर प्लान तैयार किया गया है। इटखोरी में विश्व का सबसे ऊंचा (30 मीटर) बौद्ध प्रेयर व्हील का निर्माण किया जायेगा अभी चीन के क्वीनघाई में 26 मीटर ऊंचा प्रेयर व्हील है, साथ ही भद्रकाली घाट व बुद्ध घाट दो रिभर फ्रंट भी बनाये जाएंगे। उन्होंने कहा कि बोधगया, कालेश्वरी व इटखोरी एक सर्किट का निर्माण किया जाएगा। यहां आने वाले विदेशी पर्यटकों से विदेशी मुद्रा का भी लाभ मिलेगा। इससे स्थानीय लोग रोजगार से जुड़ जाएंगे।

यहां दो-तीन माह के अंदर कार्य शुरू हो जाएगा। इस संबंध में एजेन्सी को डीपीआर बनाने का निदेश दिया गया है। कालेश्वरी पहाड़ पर 24 करोड़ की लागत से 1.6 किमी का रोपवे बनाया जाएगा। फॉरेस्ट/पर्यावरण क्लियरेंस के बाद टेंडर की प्रक्रिया शुरू की जाएगी।


जिन लोगों ने अपनी जमीनें दान में दी है उनलोगों के नाम शिलापट में दर्ज किये जायेंगे

उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र के मंदिर सौंदर्यीकरण के लिए जिन लोगों ने अपनी जमीनें दान में दी है उनलोगों के नाम शिलापट में दर्ज किये जायेंगे। ऐसे लोगों को सरकार भी सम्मानित करेगी। उन्होंने कहा कि माँ से हमने यही कामना की है कि समृद्ध राज्य की गोद में जो गरीबी पालती है, उसे मिशन हेतु हमें इतना सक्षम बनाएं कि हर गरीब के चेहरे पर हम मुस्कान ला सके। 2022 तक राज्य से गरीबी को पूरी तरह खत्म करना सरकार का संकल्प है।

इटखोरी पर्यटन विकास मास्टर प्लान के तहत होने वाले कार्य


मास्टर प्लान के तहत मां भद्रकाली मंदिर परिसर का प्रवेश द्वार पूर्व की ओर आर्कनुमा होगा। परिसर में दो रिभर फ्रंट मां भद्रकाली घाट व बुद्धा घाट का निर्माण किया जाएगा। पूरे कैम्पस में मल्टी परपस हॉल, सांस्कृतिक केन्द्र, सूचना केन्द्र, ऑडिटोरियम, म्यूजियम आदि का निर्माण किया जाएगा। प्रवेश द्वार से बैट्री चालित ऑटो द्वारा बौध स्तूप तथा कोटेश्वर मंदिर तक यात्री जा सकेंगे। दोनों स्थलों के लिए अलग-अलग सड़कें भी बनाई जाएगी।

परिसर में काफी क्षेत्र हरियाली से भरपूर होगा। यहां फूड कोट, पार्क आदि भी बनाए जाएंगे। योजना के पूरा होने से इस पूरे क्षेत्र का परिदृश्य बदल जाएगा। उपायुक्त व अन्य वरीय पदाधिकारी के साथ मुख्यमंत्री ने पूरे क्षेत्र का विधिवत भ्रमण कर मास्टर प्लान के संबंध में विस्तृत दिशा निदेश दिए।

इस मौके पर मुख्य सचिव राजबाला वर्मा, विकास आयुक्त अमित खरे, पर्यटन सचिव राहुल शर्मा, उपायुक्त संदीप सिंह, एसपी अखिलेश वी वारियर, उप विकास आयुक्त जीशान कमर सहित जिले के सभी अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।

फोटो : पवन कुमार।

X
मास्टर प्लान के तहत मां भद्रकामास्टर प्लान के तहत मां भद्रका
Click to listen..