--Advertisement--

सीएम ने की लघु एवं कुटीर उद्यम बोर्ड , कहा- उत्पाद तैयार करने से पूर्व उस हेतु मार्केट भी खोजें

सीएम ने की लघु एवं कुटीर उद्यम बोर्ड , कहा- उत्पाद तैयार करने से पूर्व उस हेतु मार्केट भी खोजें

Danik Bhaskar | Jan 09, 2018, 04:15 PM IST
मुख्यमंत्री रघुवर दास ने झारख मुख्यमंत्री रघुवर दास ने झारख

रांची। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि मुख्यमंत्री लघु एवं कुटीर उद्यम बोर्ड का कार्य ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को वनोपज समेत अन्य साधनों से रोजगार के अवसर मुहैया कराना है। उन्होंने निर्देश दिया कि उत्पाद तैयार करने से पूर्व उसके लिए मार्केट भी खोजें। इससे बाजार की जरूरत के अनुरूप उत्पाद तैयार किया जा सकेगा और किसानों और उत्पादकों को पूरा लाभ मिल सकेगा। ये बातें उन्होंने झारखंड मंत्रालय में बोर्ड की समीक्षा बैठक के दौरान कहीं।

देश का अधिकतर लाह झारखंड में होता है। उनसे उत्पाद तैयार करने पर किसानों को अच्छी कीमत मिल सकती है। इसी प्रकार मधुमक्खी पालन कर भी ग्रामीण अच्छी कमाई कर सकते है। टारगेट कस्टमर के साथ एमओयू व टाइ-अप कर लें।

हैंडीक्राफ्ट बनाने वाले राज्यभर के कलाकारों का पंजीयन कराएं
मुख्यमंत्री ने बैठक में कहा कि हैंडीक्राफ्ट बनाने वाले राज्यभर के कलाकारों का पंजीयन कराएं। इसके लिए अखबारों में विज्ञापन भी दें। इससे यह भी पता चलेगा कि राज्य में किस विधा के कितने कलाकार हैं। उन्हें बाजार के अनुरूप उत्पाद तैयार करने का प्रशिक्षण देकर उनकी आमदनी बढ़ाई जा सकती है। राज्य में बांस भी बड़ी मात्रा में होता हैं। इनके उत्पादों की बाजार में अच्छी मांग है। मुख्यमंत्री ने कहा कि विलेज कॉ-ऑडिनेटर गांव के बीपीएल परिवारों की सूची बनाएं और उनकी रुचि को चिह्नित करें। गरीब परिवारों को ही उद्यमी सखी मंडल या सखा मंडल से जोड़ा जाएगा।

ये थे उपस्थित
बैठक में मुख्य सचिव राजबाला वर्मा, विकास आयुक्त अमित खरे, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव संजय कुमार, सचिव सुनील बर्णवाल, खाद्य आपूर्ति सचिव विनय चौबे, उद्योग निदेशक के रविकुमार, बोर्ड की सीईओ रेणु गोपीनाथ पाणिकर समेत अन्य अधिकारी उपस्थित थे।