Hindi News »Jharkhand »Ranchi »News» Cornea Transplant Will Start In Government Hospital

सरकारी अस्पताल में भी कॉर्निया ट्रांसप्लांट शुरू, लौटेगी मरीजों की आंखों की रोशनी

पाटलिपुत्र मेडिकल कॉलेज अस्पताल (पीएमसीएच), धनबाद से इसकी शुरुआत की गई है।

Pawan Kumar | Last Modified - May 02, 2018, 05:53 PM IST

  • सरकारी अस्पताल में भी कॉर्निया ट्रांसप्लांट शुरू, लौटेगी मरीजों की आंखों की रोशनी
    स्वास्थ्य विभाग की प्रधान सचिव निधि खरे। (फाइल)

    रांची। बेहतर स्वास्थ्य सुविधा के क्षेत्र में झारखंड ने एक और सफलता अर्जित की है। राज्य के मरीजों को कॉर्निया ट्रांसप्लांट ( प्रत्यारोपण) के लिए अब दूसरे राज्यों का रूख नहीं करना पड़ेगा। निजी अस्पतालों में मंहगे ट्रांसप्लांट के झंझट से भी मुक्ति मिलेगी। सरकारी मेडिकल कॉलेज अस्पताल में अब यह सुविधा मौजूद होंगी। पाटलिपुत्र मेडिकल कॉलेज अस्पताल (पीएमसीएच), धनबाद से इसकी शुरुआत की गई है।

    कॉर्निया का सफल प्रत्यारोपण किया गया

    डाॅक्टर रजनीकांत सिन्हा की देखरेख में गोविंदपुर की एक महिला की कॉर्निया का सफल प्रत्यारोपण किया गया। करीब 35 वर्षीय इस महिला को कॉर्निया अल्सर की बीमारी थी। इस वजह से आंखों में रोशनी समाप्त हो गई थी और आंख फूटने का खतरा बढ़ गया था। ऐसे में समय रहते ट्रांसप्लांट करने से आंख फूटने का खतरा टल गया। वहीं, वो दोबारा दुनिया देख सकेगी।

    इस साल 250 कॉर्निया ट्रांसप्लांट का लक्ष्य
    स्वास्थ्य विभाग की प्रधान सचिव निधि खरे ने ट्रांसप्लांट करने वाले डाक्टर और नेत्रदान करने वाले परिवार को बधाई दी। कहा कि सरकार की कोशिश राज्य में स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर बनाना है। इससे मरीजों को सुगम और सस्ता इलाज मिलने में आसानी होगी। सरकारी अस्पताल में ट्रांसप्लांट शुरू होने से आम लोगों को बहुत फायदा होगा। इस साल 250 कॉर्निया ट्रांसप्लांट का लक्ष्य रखा गया है। जल्द ही यह सुविधा राज्य के सभी मेडिकल कॉलेज अस्पतालों में होगी। इससे ऐसे लोगों को फायदा होने की उम्मीद है, जिनके लिए महंगा इलाज कराना संभव नहीं है। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य सुविधाओं की स्थिति में सुधार के लिए लगातार कोशिश जारी है। अस्पतालों को सभी सुविधाओं से लैस किया जा रहा है। विशेषज्ञ डाक्टरों की बहाली की जा रही है। आम जनता को किसी भी तरह की परेशानी नहीं होने दी जाएगी। गौरतलब है कि पीएमसीएच धनबाद में कॉर्निया ट्रांसप्लांट की सुविधा वर्षों से थी। लेकिन जरूरी उपकरण और लाइसेंस होने के बाद भी ट्रांसप्लांट नहीं किया जाता था। इस बात की जानकारी मिलने के बाद प्रधान सचिव निधि खरे ने गंभीरता से लिया था।

    मंगलवार को ट्रांसप्लांट का काम शुरू किया गया

    रविवार को उन्होंने इस संबंध में पीएमसीएच प्रबंधन से बात कर काम शुरू करने का निर्देश दिया था। इसके बाद पीएमसीएच में मंगलवार को ट्रांसप्लांट का काम शुरू किया गया है। निधि खरे ने रिम्स में भी कॉर्निया ट्रांसप्लांट शुरू करने के लिए आवश्यक कदम उठाने का निर्देश दिया है। रिम्स में ट्रांसप्लांट के लिए जरूरी उपकरण मौजूद हैं, लेकिन अभी तक लाइसेंस नहीं लिया गया है। निधि खरे ने आम लोगों को नेत्रदान के लिए जागरूक करने का भी निर्देश दिया है। इससे ज्यादा से ज्यादा लोगों की जिंदगी में रोशनी लाने में सफलता मिल सके।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×