--Advertisement--

मुख्य सचिव ने किया खूंटी में कृषि-सह-विकास महोत्सव का उद्घाटन , कहा- प्रशासन के लोग योजनाओं को गांव तक पहुंचाने के सशक्त माध्यम हैं

मुख्य सचिव ने किया खूंटी में कृषि-सह-विकास महोत्सव का उद्घाटन , कहा- प्रशासन के लोग योजनाओं को गांव तक पहुंचाने के सशक्त माध्यम हैं

Danik Bhaskar | Jan 20, 2018, 07:38 PM IST
कार्यक्रम में बोलतीं चीफ सेक् कार्यक्रम में बोलतीं चीफ सेक्

रांची। मुख्य सचिव राजबाला वर्मा ने कहा है कि गांव बढ़ेगा तो देश बढ़ेगा, देश विकसित होगा। हम आप मे जज्बा, परिश्रम, शक्ति, मेहनत देख रहे हैं। आपके इसी जज्बे, परिश्रम, शक्ति, मेहनत से झारखण्ड बढ़ेगा। झारखण्ड अब तेजी से चल पड़ा है। हम सबको सपने देखने चाहिए। सपने को साकार करने के लिए धरातल पर उतरने की प्रेरणा मिलती है। परिवर्तन और बदलाव विकास के लिए जरूरी है। बिना परिवर्तन के विकास की कल्पना नहीं की जा सकती। मुख्य सचिव शनिवार को खूंटी जिला के मुरहू प्रखण्ड अंतर्गत गुटीगड़ा में कृषि-सह-विकास महोत्सव में लोगों को संबोधित कर रही थी।

2018 में दिवाली तक हर घर में बिजली

मुख्य सचिव ने कहा कि झारखण्ड गांवों में बसता है। यहां की 70 प्रतिशत आबादी गांवों में है। इसलिए गांव का विकास महत्वपूर्ण है। राज्य सरकार हर दिशा में गांव के विकास के लिए कार्य कर रही है। हम प्रशासन के लोग योजनाओं को गांव तक पहुंचाने के माध्यम हैं। योजनाओं का लाभ लेने के लिए आपको समझना होगा और आगे आना होगा तभी सफलता परिवर्तन और विकास तेजी से होगा।

गांव के विकास के लिए आर्थिक, सामाजिक एवं आधारभूत संरचना तीन महत्वपूर्ण विषय हैं। सरकार की ओर से गांव स्तर पर आधारभूत संरचनाओं का विकास किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने लक्ष्य दिया है कि 2018 में दिवाली तक हर घर में ‘सौभाग्य’’ योजना के तहत बिजली पहुंचा दी जाएगी। जो गांव सौ घरों के है उनको प्रधानमंत्री सड़क योजना से जोड़ा जा रहा है। अब तक तीन हजार किलोमीटर सड़क का निर्माण हो चुका है। जिन क्षेत्रों में बिजली एवं सड़क पहुंच गई है वहां परिवर्तन एवं बदलाव का संचार होता है।

40 हजार विद्यालय खोले गए

सीएस ने कहा कि सरकार पेयजल के लिए निरंतरता के साथ कार्य कर रही है। सामाजिक विकास के तहत शिक्षा, स्वास्थ्य की पहुंच आपके गांव तक है। झारखण्ड में 40 हजार विद्यालय खोले गए हैं, 32 हजार आंगनबाड़ी केंद्र हैं, जिसमें आंगनबाड़ी सेविका, सहायिका, सहिया अपने गांव की बहुएं हैं एवं वे टीकाकरण का कार्य कर रही हैं। बच्चों के पोषण युक्त आहार दे रही है।

गर्भवती की जांच भी आप ही कर रही हैं। आपको अपने अधिकार के लिए जागना होगा। सरकार सबकुछ उपलब्ध करा रही है। आपको उसे पाने के लिए आगे आना होगा। महिलाओं को सखी मंडल से जुड़ना चाहिए। सखी मण्डलों को बैंक से लिंकेज किया गया है। स्वामी विवेकानंद ने कहा था कि उठो जागो और निरंतर चलते रहो जब तक कि आपको लक्ष्य की प्राप्ति नहीं हो जाती। कहते हैं भगवान उसी की सहायता करता है जो स्वयं की सहायता करता है। उन्होंने कहा कि आर्थिक विकास के लिए कृषि महत्वपूर्ण है।

प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री ने कृषकों की आय दोगुनी करने के लिए अनेक योजनाएं चला रही है। जोहार योजना सरकार की महत्वपूर्ण योजना है। हमारा झारखण्ड राज्य विकसित राज्य की पंक्ति में खड़ा हो सके इसके लिए आपको जागना होगा। रामकृष्ण मिशन ने गांवों में परिवर्तन किया है इस परिवर्तन को हमें सहज स्वीकार करना चाहिए।

योजनाओं को गांवों तक पहुंचाएं:कड़िया मुंडा

इस अवसर पर माननीय सांसद कड़िया मुण्डा ने कहा कि यह मेला हर साल दिसम्बर -जनवरी में लगता है। जिसमें किसानों को प्रोत्साहन दिया जाता है। हमारे लिए सौभाग्य की बात है कि रामकृष्ण मिशन ग्रामीण क्षेत्रों में करीब पचास-पचपन सालों से कार्य कर रही है। पिछड़े क्षेत्रों के सर्वांगीण विकास के लिए कार्य कर रही है जहां के आदिवासी आधे कपड़े पहनते हैं। यह ऐसी संस्था है जो उनकी चिंता करती है जिनकी चिंता कोई नहीं करता। भारत में 65 प्रतिशत जनता आज भी गांवों में रहते हैं। हमारी जिम्मेवारी ऐसी योजनाओं को गांवों तक पहुंचाने की है ताकि गांव आदर्श बनने के साथ- साथ वहां सर्वांगीण विकास भी दिखाई दे।


जोहार एक महत्वपूर्ण योजना, इससे जोड़कर लोगों की आय होगी दोगुनी

ग्रामीण विकास सचिव अविनाश कुमार ने कहा कि ग्रामीण विकास विभाग में महिलाओं की सशक्त भूमिका को देखते हुए उन्हें अधिक से अधिक सहायता पहुंचाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जोहार एक महत्वपूर्ण योजना है जिससे लोगों को जोड़कर लोगों की आय दोगुनी की जा सकती है। उन्होंने लोगों से कहा कि मनरेगा, प्रधानमंत्री आवास योजना, प्रधानमंत्री सड़क योजना का लाभ लें। सरकार आपके साथ है।

कृषि पशुपालन एवं सहकारिता सचिव पूजा सिंघल ने कृषि एवं उनसे संबंधित योजनाओं की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि खूंटी एवं मुरहू में मत्स्य पालन के क्षेत्र में काफी कार्य हुए हैं। मत्स्य के क्षेत्र में आंध्र एवं बंगाल से निर्भरता खत्म हो रही है। उन्होंने लोगों को मत्स्य पालन से जुड़ने की अपील की।

फोटो : पवन कुमार।