Hindi News »Jharkhand »Ranchi »News» Elephants In Adityapur, Many Home Destroyed

हाथियों के झुंड ने रामजीवनपुर में मचाई तबाही, घर तोड़े, फसल बर्बाद की

हाथियों के झुंड ने रामजीवनपुर में मचाई तबाही, घर तोड़े, फसल बर्बाद की

Animesh Nachiketa | Last Modified - Dec 21, 2017, 11:44 AM IST

सरायकेला (झारखंड)। यहां के गम्हरिया प्रखंड के चार पंचायतों में उत्पात मचाने के बाद बीती रात हाथियों के झुंड ने दुग्धा पंचायत के रामजीवनपुर गांव में तबाही मचाई है। हाथियों के झुंड ने यहां कई लोगों के घरों को तोड़ दिया। कई ग्रामीणों के खेतों में लगी फसलें भी रौंद दी। करीब डेढ़ दर्जन हाथी झुंड में चाड़री डुंगरी और नंदीडीह के जंगल में हैं। हाथियों को देखने उमड़ी भीड़...

- हाथियों को देखने के लिए करीब दो हजार लोग रोड के किनारे एकत्रित हो गए, जिस कारण कांड्रा-सरायकेला मार्ग जाम हो गया।

- सूचना मिलते ही कांड्रा थाना पुलिस ने तड़के 5 बजे पहुंचकर काफी मशक्कत के बाद जाम हटाया। पुलिस ने वन विभाग के अधिकारी को सूचना दी, पर कोई अधिकारी चाड़री डुंगरी नहीं पहुंचे।

- इधर, वनपाल दिलीप मिश्रा ने बताया कि हाथियों को भगाने के लिए 50 प्रशिक्षित युवकों को लगाया गया है, जिनके सहारे हाथियों को क्षेत्र से भगाया जाएगा। फिलहाल ग्रामीण हाथियों के आतंक से डरे हुए हैं।

महुआ से आकर्षित होते हैं हाथी, नशे में मचाते हैं तबाही

- सरायकेला जिले के रेंज ऑफिसर सुरेश प्रसाद ने बताया कि पिछले एक महीने से जिले के कई इलाकों में जंगली हाथियों का उत्पात जारी है।

- वन विभाग ने जब इसका कारण जानने की कोशिश की तो चौंकाने वाला कारण पता चला। हाथियों के उत्पात का कारण गांवों में मिलने वाले अवैध महुआ शराब हैं।

- रेंज ऑफिसर के मुताबिक हाथियों को महुआ की महक आकर्षित करती है। जिस घर से इन्हें महुआ की महक मिलती है, वहां हाथियों का झुंड पहुंच जाता है।

- इसके बाद हाथी महुआ का सेवन कर लेते हैं, जिसके बाद नशे में घरों और फसलों को रौंदने लग जाते हैं।

वीडियो : गणेश सरकार।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Ranchi News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: yaha haathiyon ke jhund ne mchaaee aisi tbaahi, dekhne ke liye umड़e hazaaron loga
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×