Hindi News »Jharkhand »Ranchi »News» Fake DSP And His Fake Bodyguard Arrested In Dhanbad Jharkhand

फर्जी डीएसपी और पुलिसकर्मी अरेस्ट, लोगों को भय दिखाकर करते थे वसूली

फर्जी डीएसपी और पुलिसकर्मी अरेस्ट, लोगों को भय दिखाकर करते थे वसूली

Animesh Nachiketa | Last Modified - Dec 19, 2017, 01:36 PM IST

धनबाद (झारखंड)। यहां के बैंक मोड़ थाने की पुलिस ने मंगलवार को एक फर्जी डीएसपी को अरेस्ट किया है। पंकज कुमार नाम का यह डीएसपी लोगों को भय दिखाकर उनसे वसूली किया करता था। पुलिस ने इसके बदन से करीब 12 लाख रुपए के सोने के गहने बरामद किए हैं। साथ ही 10 लाख रुपए एक पुलिस लिखी एसयूवी गाड़ी भी जब्त की गई है। पंकज के साथ उसका एक सहयोगी चंदन कुमार भी अरेस्ट हुआ, जो डीएसपी का फर्जी बॉडीगार्ड बनकर वसूली किया करता था। लोगों ने की थी शिकायत...

- बैंक मोड़ के थाना प्रभारी ने बताया कि बोकारो जिले के रहने वाले ये दोनों बदमाश पिछले कई दिनों से विभिन्न जगहों में घूमकर लोगों को परेशान किया करते थे।

- दुकानदारों और फुटपाथ पर ठेले-खोमचों वालों को ये भय दिखाकर उनसे पैसे वूसला करते थे। इसके अलावा रात में ये पुलिस बनकर लोगों से लूटपाट भी किया करते थे।

- बीती रात बैंक मोड़ थाने से थोड़ा आगे ये गाड़ी लगाकर साइकल, रिक्शा और अन्य वाहनों से पैसे की वसूली कर रहे थे, इसी दौरान पुलिस ने इन्हें अरेस्ट कर लिया।

- पुलिस ने इनके पास से सोने की कई अंगूठी, चेन और मोबाइल फोन बरामद किए हैं। ये सब लोगों से जबरन छीने गए थे।

- पुलिस ने दोनों से पूछताछ करने के बाद इन्हें जेल भेज दिया है। वहीं इनके पास से बरामद काले रंग की डस्टर टेरेनो गाड़ी की जांच की जा रही है।

पुलिस पहुंची तो बोकारो के डीएसपी के रूप में दिया परिचय

- शिकायत के बाद बैंक मोड़ थाने की पुलिस जब मौके पर पहुंची तो उन्हें भी पंकज ने अपना परिचय डीएसपी के रूप में दिया। पंकज ने कहा कि वो बोकारो का डीएसपी है।

- पुलिस के अनुसार ये लोग इससे पहले भी धनबाद रेलवे स्टेशन और रंगाटांड़ के पास वसूली किया करते थे। कोयला वालों समेत सभी इनके निशाने पर रहते थे।

- पुलिस ने बताया कि ये फ्रॉड हैं और इनका आपराधिक इतिहास भी पता किया जा रहा है।

पहले दिखाई अकड़, भेद खुल गया तो शर्म से नजरें नहीं उठा सका फर्जी डीएसपी

- अकड़ अफसर वाली...। लहजा ऑर्डर देने वाला...। कभी ओडी ऑफिसर को हड़काया, तो कभी सिपाही पर आंखें तरेरीं।

- कुछ देर तक तो उसने ऐसा माहौल बनाया कि बैंकमोड़ पुलिस उसे साहब ही समझती रही। पर सच बहुत देर तक छुप नहीं सका।

- जांच हुई और वह फर्जी डीएसपी साबित हो गया। फिर क्या था...? उसकी सारी अकड़ निकल गई। वह सिर झुका कर खड़ा हो गया। वह पलभर के लिए नजरें नहीं मिला सका। पुलिस उसका सिर उठाती और वह फिर से सिर झुका लेता।

कलाई घड़ी की कीमत बताई एक लाख

- पंकज ने जो कलाई घड़ी पहन रखी थी, उसकी कीमत उसने पुलिस को एक लाख रुपए बताई। उसने सोने की दो मोटी चेन, दो पतली चेन, सोने का ब्रेसलेट और अंगूठी पहन रखी थी।

- एएसआई ने कहा कि पंकज के गहने थाने में सुरक्षित हैं, जेल से छूट कर आने पर उसे सौंप दिए जाएंगे।

बोकारो स्टील प्लांट में कार्यरत थे पिता

- पूछताछ में पंकज ने पुलिस को बताया कि उसके पिता भुवनेश्वर प्रसाद सिंह सेल के बोकारो स्टील प्लांट में स्टोर में कार्यरत थे। उनका देहांत हो चुका है। वह अपने चाचा के साथ रहता है।

फोटो : धमेंद्र पांडेय।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Ranchi News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: 10 laakh ki gaaaड़i, bdn par the 12 laakh ke gahne, aise pkड़aayaa ye frji DSP
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×