रांची

--Advertisement--

स्टार्टअप हब बनेगा झारखंड, सरकार ने तैयार किया रोडमैप

स्टार्टअप हब बनेगा झारखंड, सरकार ने तैयार किया रोडमैप

Danik Bhaskar

Jan 10, 2018, 07:09 PM IST
दो दिवसीय कार्यक्रम के उद्घाट दो दिवसीय कार्यक्रम के उद्घाट

रांची। भविष्य में रोजगार की उपलब्धता सरकारी और निजी क्षेत्र में नहीं बल्कि स्टार्टअप और छोटे उद्योगों में होने की उम्मीद है। इसका लाभ उठाने के लिए झारखंड ने रोडमैप तैयार कर लिया है। झारखंड जल्द ही स्टार्टअप का हब साबित होगा। नए उद्यमियों को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकार द्वारा शुरू स्टार्टअप कार्यक्रम से बड़ी संख्या में लोग जुड़ रहे हैं।

- राज्य की स्टार्टअप नीति से प्रभावित होकर झारखंड और महानगरों के एंटरप्रन्योर इधर रुख करने लगे हैं। रोजाना नए स्टार्टअप आइडिया को लेकर आ रहे हैं। जिसे धरातल पर उतारने में राज्य सरकार की तरफ से हर संभव मदद दी जा रही है।

- खासतौर पर कृषि, कौशल विकास और सूचना प्रौद्योगिकी जैसे क्षेत्र से इनोवेशन और स्टार्टअप के कई प्रस्ताव सामने आए हैं।

- इस क्षेत्र में झारखंड को पूरे देश के सामने उदाहरण के रुप में पेश करने की योजना है। इसे अमल में लाने के लिए सूचना प्रौद्योगिकी और ई गवर्नेंस विभाग की तरफ से फरवरी में रांची स्टार्टअप कॉन्क्लेव का आयोजन किया जाएगा।

- दो दिवसीय कार्यक्रम के उद्घाटन समारोह में टाटा समूह के रतन टाटा, सहित दो दर्जन से अधिक बहुराष्ट्रीय कंपनियों के प्रतिनिधियों के हिस्सा लेने की संभावना है।

- कई क्षेत्र के विशेषज्ञों को भी कार्यक्रम में आमंत्रित किया गया है। दमदार आइडिया वाले उद्यमी को दिशा प्रदान करने में यह कार्यक्रम मील का पत्थर साबित होगा।
- इस कॉन्क्लेव से पहले सरकार की तरफ से नौ पिच इवेंट आयोजित किए गए हैं। इसके माध्यम से स्टार्टअप को लेकर माहौल बनाने की कोशिश की जा रही है। जिसमें लोगों की बेहतर भागीदारी रही।

- अब तक 600 से अधिक स्टार्टअप आइडिया आए हैं। जिनमें करीब 75 इनोवेटिव आइडिया को चयनित किया गया है। इन्हें धरातल पर उतारने में सरकार मदद करेगी।

- इसके अलावे धनबाद,जमशेदपुर के अलावे हैदराबाद और बैंगलुरू में रोड शो का आयोजन जनवरी में किया जाएगा। रोड शो के माध्यम से स्टार्टअप को लेकर झारखंड की तैयारी की जानकारी और कॉन्क्लेव का निमंत्रण दिया जाएगा।


महिला और ट्राइबल पर फोकस

- स्टार्टअप कार्यक्रम में सबकी भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए राज्य सरकार स्टार्टअप कार्यक्रम से समाज के अंतिम आदमी को जोड़ने की योजना है। खासतौर पर ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाली महिला और आदिवासी समाज के एंटरप्रन्योर को मंच प्रदान किया जा रहा है।

- इन दोनों वर्गों के उद्यमियोंं को सामने लाने के लिए पिछले दिनों रांची में कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जिसमें विशेषज्ञों ने इन्हें स्टार्टअप के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

- महिला उद्यमियो ने स्टार्टअप के 140 आइडिया प्रस्तुत किए। चुने गए 50 आइडिया को पुरस्कृत किया गया। आदिवासी समाज के उद्यमी भी स्टार्टअप को एक मौका के रुप में ले रहे हैं। - इन्हें अब ऋण के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा। उत्पाद का बाजार उपलब्ध कराने में भी सरकार मदद करेगी।

फोटो : पवन कुमार।

Click to listen..