Hindi News »Jharkhand »Ranchi »News» JMM Did The Press Conference After Voting

मतदाताओं को मताधिकार से वंचित करने का प्रयास हुआ: झामुमो

झामुमो ने राज्य निर्वाचन आयोग से सरायकेला-खरसांवा जिले के कपाली नगर परिषद के उपाध्यक्ष पद का चुनाव रद्द करने की मांग की

Dainikbhaskar.com | Last Modified - Apr 16, 2018, 06:58 PM IST

  • मतदाताओं को मताधिकार से वंचित करने का प्रयास हुआ: झामुमो
    झामुमो महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य।-फाइल

    रांची। झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने आरोप लगाया है कि नगर निकाय चुनाव में भारी पैमाने पर मतदाताओं को उनके मताधिकार के उपयोग से वंचित किया गया। पार्टी को इसकी पहले से आशंका थी। राज्य निर्वाचन आयोग से इसकी शिकायत भी की गई थी। लेकिन समय रहते कोई सुधार नहीं हुआ। परिणाम हुआ कि भारी संख्या में मतदाता अपने मताधिकार से वंचित रहे। मतदान की समाप्ति के बाद भट्टाचार्य पार्टी मुख्यालय में संवाददाताओं से बातचीत कर रहे थे।

    लोगों के मत, विभिन्न बूथों पर तितर बितर कर दिए गए
    उन्होंने कहा कि रांची में जहां 40 फीसदी के आसपास मतदान हुए। वहीं, प्रदेश के अन्य हिस्सों में 65 फीसदी तक मतदान। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि एक ही अपार्टमेंट में रहनेवाले लोगों के मत, विभिन्न बूथों पर तितर बितर कर दिए गए। किसी मुहल्ले की बड़ी आबादी का मतदान केंद्र कहीं दूर फेंक दिया गया। उन्होंने दावा किया कि इसके बावजूद रांची नगर निगम में मेयर और डिप्टी मेयर के पद पर भाजपा की हार सुनिश्चित हो गई।

    झामुमो ने नगर निकाय चुनाव को सकारात्मक रूप में लिया
    सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि प्रशासन द्वारा निकाय चुनाव में गड़बड़ी किए जाने की आशंका पहले से थी। इसका प्रत्यक्ष उदाहरण रहा कि कपाली नगर परिषद में पार्टी के अधिकृत प्रत्याशी का चुनाव चिन्ह ही बदल गया। इसके माध्यम से मतदाताओं को भ्रमित करने की कोशिश की गई। उन्होंने दावा किया कि झामुमो ने नगर निकाय चुनाव को सकारात्मक रूप में लिया। पार्टी के नेता-कार्यकर्ता आम लोगों से संपर्क करने में सफल रहे।

    कपाली नगर परिषद के उपाध्यक्ष पद का चुनाव रद्द करने की मांग
    झामुमो ने राज्य निर्वाचन आयोग को पत्र लिख कर सरायकेला-खरसांवा जिले के कपाली नगर परिषद के उपाध्यक्ष पद का चुनाव रद्द करने की मांग की है। पत्र में कहा गया है कि झामुमो से उपाध्यक्ष पद के उम्मीदवार परवेज आलम के नाम के आगे इवीएम मशीन में तीर-धनुष की जगह केवल तीर का चिन्ह दर्शाया गया। इससे मतदाताओं में भ्रम की स्थिति पैदा हुई और वे अपने प्रत्याशी को मत देने से वंचित रहे। इसलिए आयोग पुन: मतदान कराए।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×