--Advertisement--

झाविमो ने सिल्ली विस उपचुनाव के लिए पार्टी नेताओं की दी जिम्मेवारी - 1

Dainik Bhaskar

May 15, 2018, 06:29 PM IST

झाविमो ने सिल्ली विस उपचुनाव के लिए पार्टी नेताओं की दी जिम्मेवारी - 1

लालू यादव बिरसा मुंडा सेंट्रल लालू यादव बिरसा मुंडा सेंट्रल

रांची. बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और चारा घोटाला में सजायाफ्ता लालू प्रसाद यादव बुधवार को बिरसा मुंडा केंद्रीय कारागार से प्रोविजनल बेल पर बाहर निकले। जेल से वे सीधे बिरसा मुंडा एयरपोर्ट पहुंचे। यहां से वो फ्लाइट से पटना रवाना हो गए। उनके साथ उनके साथ में बिहार के बहादुरपुर के राजद विधायक भोला यादव भी हैं। मालूम हो, लालू को हाईकोर्ट ने इलाज के लिए 6 सप्ताह की प्रोविजनल बेल दी है।

50-50 हजार के दो बेल बांड भरे

- लालू की प्रोविजनल बेल से संबंधित हाईकोर्ट का आदेश सीबीआई कोर्ट पहुंचा। बुधवार को भोला यादव सहित अन्य जमानतदार कोर्ट पहुंचे। 50-50 हजार के दो बेल बांड भरे गए। हालांकि कोर्ट ने लालू से पासपोर्ट जमा करने को कहा।

- सीबीआई ने कोर्ट को बताया कि लालू प्रसाद का पासपोर्ट हमारे पास है। इसके बाद लालू की बेल बॉन्ड प्रक्रिया पूरी हुई। कुछ देर बाद जेल प्रशासन को लालू की रिहाई का आदेश मिल गया।

सोमवार शाम से जेल में थे
- बता दें कि बड़े बेटे तेजप्रताप की शादी में शामिल होने के बाद लालू सोमवार शाम वापस रांची पहुंचे। उनकी तीन दिन की पेरोल सोमवार को खत्म हो गई थी। रांची एयरपोर्ट से उन्हें सीधे बिरसा मुंडा जेल ले जाया गया। लालू सोमवार शाम से बुधवार दोपहर तक जेल में ही थे।
- झारखंड हाईकोर्ट ने शुक्रवार (11 मई) को लालू प्रसाद को 6 हफ्ते की प्रोविजनल बेल दी थी। लालू की ओर से इलाज कराने के लिए यह जमानत मांगी गई थी। भोला यादव ने बताया कि पटना पहुंचकर लालू को दिखाने के लिए मुंबई के डॉक्टर से समय लिया जाएगा।

लालू को 6 में से इन 4 केस में सजा
-चाईबासा ट्रेजरी का पहला केस: 30 सितंबर 2013 को कोर्ट ने लालू यादव को दोषी माना। पांच साल जेल की सजा हुई। 25 लाख रुपए का जुर्माना भी उन पर लगाया गया था।
- देवघर ट्रेजरी केस: 23 दिसम्बर 2017 को दोषी करार। 6 जनवरी 2018 को लालू समेत 16 आरोपियों को साढ़े तीन साल जेल की सजा सुनाई गई। लालू पर 10 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया गया।
- चाईबासा ट्रेजरी का दूसरा केस: 24 जनवरी 2018 को लालू दोषी करार। इसी दिन उन्हें 5 साल की सजा सुनाई गई। दस लाख रुपए जुर्माना।
- दुमका ट्रेजरी केस: मार्च 2018 में लालू यादव को दोषी माना गया। पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र बरी हुए। 24 मार्च को लालू को 7-7 साल की सजा सुनाई गई। दोनों सजाएं अलग-अलग चलेंगी। यानी कुल 14 साल। लालू पर 60 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया गया।

X
लालू यादव बिरसा मुंडा सेंट्रल लालू यादव बिरसा मुंडा सेंट्रल
Astrology

Recommended

Click to listen..