Hindi News »Jharkhand »Ranchi »News» Raghuvar Sarkar Did Not Do Three Jobs In Three Years: Pradeep Yadav

रघुवर सरकार तीन साल में तीन काम भी नहीं किया, भ्रष्ट्र नेता-अफसरों का बनाया गिरोह : प्रदीप यादव झाविमो ने सरकार के तीन साल की उपलब्धियों के बखान की उड़ायी खिल्ली - 1

रघुवर सरकार तीन साल में तीन काम भी नहीं किया, भ्रष्ट्र नेता-अफसरों का बनाया गिरोह : प्रदीप यादव झाविमो ने सरकार के तीन साल की उपलब्धियों के बखान की उड़ायी खिल्ली - 1

Kaushal Anand | Last Modified - Dec 29, 2017, 06:58 PM IST

रांची। झारखंड विकास मोर्चा के प्रधान महासचिव एवं पार्टी विधायक दल नेता प्रदीप यादव ने कहा कि सरकार ने तीन वर्ष में तीन काम भी ऐसे नहीं किए, जिसे जनता ने मुहर लगाई हो। हां तीन वर्ष में नेता व भ्रष्ट अफसरों का गिरोह बना है। इसके जरिए नौकरी लूट, जमीन लूट व हक व अधिकार लूट हुआ, जमकर भ्रष्टाचार हुआ। 17 वर्ष में सबसे अधिक भ्रष्ट सरकार यह साबित हुई है। उक्त बातें प्रदीप यादव ने पार्टी केंद्रीय कार्यालय में आयोजित एक प्रेस वार्ता के दौरान कही।

-उन्होंने कहा कि सरकार ने तीन वर्ष में जनता और उसके मुलभूत सुविधाओं के लिए कुछ नहीं किया। शिक्षा, बिजली, स्वास्थ्य, बेरोजगारी, सिंचाई योजनाओं पर कुछ भी नहीं हुआ।
-यह झाविमो नहीं सरकार के ही सरकारी आंकड़े बयां कर रही है। इस मौके पर पार्टी केंद्रीय सचिव सरोज सिंह, संतोष कुमार, केद्रीय मीडिया प्रभारी तौहिद आलम आदि उपस्थित थे।

1336 अपग्रेड स्कूलों में प्रिंसिपल नहीं है
-प्रदीप यादव ने कहा- शिक्षा के क्षेत्र में सरकार बेंच-डेस्क को उपलब्धी करार दे रही है। कक्षा 6 से 8 के बच्चे 5 प्रतिशत भी अंग्रेजी बोलना नहीं जानते हैं।

-प्लस टू के 66 स्कूलों के बच्चे एक भी पास नहीं हुए। 1336 अपग्रेड स्कूलों में प्रिंसिपल नहीं है। राज्य में 89 मॉडल स्कूलों में एक भी प्रिंसिपल नही है।
-एक भी स्थाई शिक्षक नहीं है। 5 विश्वविद्यालय की हालत खराब है। कई विभाग में विभागाध्यक्ष एवं शिक्षक नहीं है। बिना पढ़े छात्र पास हो रहे हैं। 18 पॉलिटेक्निक संस्थान में प्रिंसिपल नहीं है।

-राज्य के 4500 स्वास्थ्य केंद्रों में बिजली नहीं है। नए मेडिकल कॉलेज की बातें छोड़ दें राज्य के तीन मेडिकल कॉलेजों पर एमसीआई की तलवार लटक रही है।
-पीएमसीएच में 150 से घटाकर 50 कर दी गयी। सैकड़ों स्वास्थ्य केंद्रों में डॉक्टर और नर्स नहीं है। सरकार प्रिंसिपिल और विशेषज्ञ खोजने में विफल रही है।

टीवीएनएल महीना में 10 दिन बंद
-उन्होंने कहा- झारखंड गठन के बाद राज्य में 700 मेगावाट बिजली उत्पादन होती थी। मगर अब यह घटकर 250-150 मेगावाट में आ गयी है। टीवीएनएल महीना में 10 दिन बंद ही रहता है।
-सिकिदिरी की हालत भी खराब है। एक पीटीपीएस जिससे बिजली उत्पादन होता था, उसे भी औने-पौने दाम पर एनटीपीसी को बेच दिया गया। गांवों में 24 घंटे तो दूर 2 घंटे भी ढंग से बिजली नहीं मिल रही है।
-तीन साल में नक्सलवाद तो खत्म नहीं हुआ मगर तीन वर्ष में सबसे अधिक फर्जी मुठभेड़ में 50 से अधिक लोगों को मार दिया गया। बाकोरिया व पींडरोड मुठभेड़ सबसे चर्चित मामला है।
-16 दिसंबर 2016 की बूटी मोड़ की कांड जिसमें स्कूली छात्र को मार दिया गया, दो वर्ष बीत जाने के बाद भी पुलिस चार्टशीट तक फाइल नहीं कर सकी है।
-रघुवर सरकार बनने के बाद 2015 में 2255, 2016 में 1575 तथा 2017 में 1681 दंगे हुए। तीन वर्ष में अपराधी मजबूत हुए और सरकार विरोधियों को कुचलने में अधिक मुस्तैद नजर आयी।

भ्रष्टाचार के सारे रिकार्ड तोड़ दिए सरकार ने
-उन्होंने कहा- सरकार ने भ्रष्टाचार के सारे रिकार्ड तोड़ दिए। पूरे देश में झारखंड ऐसा राज्य है, जहां लोकायुक्त को पंगू कर दिया गया। एक भी जांच करने के पूर्व लोकायुक्त को सरकार से अनुमति लेनी पड़ती है।
-दुमका-दुधारी टाटा शो रूम सड़क, रांची के विभिन्न मार्ग, धनबाद-रांची मार्ग के निर्माण में भ्रष्टाचार की गंगोत्री बह रही है। धनबाद-रांची सड़क की लागत 2000 करोड़ है।
-सरकार को जहां पहले शराब से 900 करोड़ आते थे अब यह 500 करोड़ से भी नीचे पहुंच गया है। मोमेंटम झारखंड के नाम पर लूट हुई।
-2 प्रतिशत भी निवेश नही हुआ मगर जनता की गाड़ी कमाई पानी की तरह बहा दी गयी। कई बड़े घोटालों की फाइल सीएम के पास है। मगर कोई कारवाई नहीं हो रही है।

झारखंडी छात्र-छात्राओं को नौकरी से वंचित कर दिया
-प्रदीप यादव ने कहा कि स्थानीय नीति बनाई नहीं बल्कि पहले से तय नीति में संशोधन करके झारखंडी छात्र-छात्राओं को नौकरी से वंचित कर दिया गया।
-नियुक्तियों में नए-नए नियम व पेंच डालकर झारखंडियों को आवेदन करने से भी मना कर दिया गया। छात्रवृति राशि में कटौती से 50 हजार छात्र-छात्राएं पढ़ाई छोड़ दिए हैं। सरकार का नियुक्तियों में 95 प्रतिशत स्थानीय को बहाल करने का दावा झूठ का पुलिंदा है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×