--Advertisement--

बेटे ने समझा मजाक फंदे से झूलते मिले पिता, पोस्टमार्टम रिपोर्ट से आया नया मोड़

बेटे ने समझा मजाक फंदे से झूलते मिले पिता, पोस्टमार्टम रिपोर्ट से आया नया मोड़

Danik Bhaskar | Dec 17, 2017, 10:44 AM IST
घटना के बारे में बताती मृतक की घटना के बारे में बताती मृतक की

रांची। लोअर वर्द्धमान कंपाउंड के फ्रेंड्स कॉलोनी निवासी और डीसी ऑफिस की गोपनीय शाखा के क्लर्क संजय झा (56)की खुदकुशी के मामले में नया मोड़ आ गया है। पोस्टमाॅर्टम (पीएम) रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि उनका गला रस्सी से दबाया गया था। पोस्टमार्टम में गला घोंटने की बात सामने आई है। उनके बेटे ने बताया था कि मंगलवार की रात पिता ने कहा था कि वे खुदकुशी करने जा रहे हैं, इसे उसने मजाक समझा था। रात 12 बजे उनका शव घर के ऊपर वाले कमरे में झूलता पाया गया था। हाथ-पैर में जख्म के निशान...

-रांची के डीसी मनोज कुमार शुक्रवार को रिम्स गए थे। उन्हें वहां के डॉक्टर्स ने पोस्टमाॅर्टम रिपोर्ट की मौखिक जानकारी दी है।
-इसके बाद डीसी मनोज कुमार ने एसएसपी कुलदीप द्विवेदी को मामले की गहन जांच करने का निर्देश दिया।
-आमतौर पर फांसी लगाने के बाद जो निशान गले में बनते हैं, वे निशान इस पोस्टमाॅर्टम रिपोर्ट में नहीं है। रस्सी से गला दबाने पर जब व्यक्ति विरोध करता है, तब गले में रगड़ाने से घाव के निशान बन जाते हैं।
-वहीं निशान संजय झा के गले में मिले हैं। उनके पैर और हाथ में भी जख्म के निशान हैं। पुलिस ने संजय झा के छोटे बेटे निखिल के बयान पर खुदकुशी की एफआईआ दर्ज की थी।
-निखिल ने बताया था कि कमरे का दरवाजा तोड़ कर उनका शव उतार कर रिम्स ले जाया गया था। बेटे के अनुसार, उनके पिता पर काम का बोझ अधिक था, इस कारण उन्होंने खुदकुशी की थी।
-लालपुर के थानेदार रमोद सिंह का कहना है कि सूचना पर घर की छानबीन की गई तो घर का दरवाजा टूटा मिला था। मौके से पुलिस को नायलॉन की रस्सी मिली थी।