रांची पुलिस ने कांके में पकड़ा शराब का तालाब, करीब २५ हजार लीटर देशी शराब जब्त। / रांची पुलिस ने कांके में पकड़ा शराब का तालाब, करीब २५ हजार लीटर देशी शराब जब्त।

रांची पुलिस ने कांके में पकड़ा शराब का तालाब, करीब २५ हजार लीटर देशी शराब जब्त।

Gupteshwar Kumar

Feb 26, 2018, 06:53 PM IST
पानी की मोटर से खींची जाती थी श पानी की मोटर से खींची जाती थी श

रांची/कांके. राजधानी में पहली बार अवैध शराब के लिए बनाया गया कुंआ और टैंक मिला है। यहीं नहीं, कुंए के पास मोटर लगी मिली, जिससे शराब निकाली जाती थी। कांके के होचर में करीब एक एकड़ स्कवॉयर में अवैध रूप से देसी शराब बनाने की इस फैक्ट्री को देखकर पुलिस भी चौंक गई। आलीशान बिल्डिंग के अंदर जमीन के तहखाने और दीवान के अंदर तक शराब रखी गई थी। शराब छिपाने के लिए दो-दो हजार लीटर की बड़ी टंकियों को जमीन में गाड़ रखा था।

नल के जरीये से की जाती थी पैकेजिंग

पुलिस की टीम ने सोमवार करीब 2 बजे कांके इलाके के शराब माफिया सोनाराम साहू और मोनाराम साहू के ठिकानों पर छापेमारी की। आरोपियों के परिवार सहित पहले ही फरार हो जाने से कोई गिरफ्तारी नहीं हो सकी है। माना जा रहा है कि उनको छापेमारी की सूचना मिल गई थी।

लगभग 2 घंटे तक पुलिस को सोनाराम साहूू के आवास का ताला खुलवाने के लिए इंतजार करना पड़ा। इसी बीच सोनाराम साहू की दो भतीजियां काॅलेज से पहुंचीं और उन्होंने ताला खोला। कमरे में एक गद्दा हटाने पर वहां टाइल्स के सतह पर 5 टंकियां दिखीं, जिनमें अवैध देसी महुआ शराब भरी थी। वहां नल लगा था, जिसके जरीये से पैकेजिंग की जाती थी।

30 हजार लीटर देसी शराब जब्त

पुलिस शराब माफिया के विरुद्ध इसे अबतक की अपनी सबसे बड़ी कामयाबी मान रही है है। करीब 30 हजार लीटर देसी शराब जब्त कर नष्ट की गई है। एसएसपी कुलदीप द्विवेदी ने शराब माफिया के विरुद्ध छापेमारी अभियान के लिए विशेष क्यूआरटी का गठन किया है।

तहखाने से लेकर हर कोने में शराब ही शराब

कांके में ऐसा सिस्टम शायद ही पहले किसी अवैध शराब के कारखाने में पकड़ा गया हो। बाहर खुले में देशी भट्‌टा। बगल में सीवर और नाली का गंदा पानी। भट्‌टी से कुएं तक पाइप का सेटअप। मोटर चलाकर कुंए से पानी निकाला तो उसमें भी शराब की बदबू आ रही थी। हालांकि उसकी जांच होनी अभी बाकी है। इसके अलावा टैंक से शराब की पुष्टि हो गई। उसे नष्ट भी कर दिया गया। कमरे में रखे दीवान के अंदर सरकारी दुकानों से खरीदी विदेशी शराब की बोतलें मिलीं। पुलिस के अनुसार इसे होली में ब्लैक में बेचने की योजना थी ।

30 साल से यहीं बनाता था शराब बिहार तक में होती है सप्लाई

नाम उजागर नहीं करने की शर्त पर ग्रामीणों ने बताया कि सोनाराम व मनाराम साहू 1990 से अवैध शराब बनाकर बेच रहें हैं। उसने तीन मंजिल की बिल्डिंग (कीमत करीब एक करोड़) बना ली। जांच में सामने आया कि इनकी बनाई अवैध शराब झारखंड, बिहार छत्तीसगढ़ में सप्लाई होती थी। हाल ही में बिहार के औरंगाबाद में इनकी शराब पकड़ी गई, इसी के बाद यहां कार्रवाई हुई।

फोटोज: राजीव गोस्वामी।

X
पानी की मोटर से खींची जाती थी शपानी की मोटर से खींची जाती थी श
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना