--Advertisement--

हादसे के बाद रोड पर बिखरी मिली लाशें, हॉस्पिटल में रातभर गूंजती रही चीख-पुकार

हादसे के बाद रोड पर बिखरी मिली लाशें, हॉस्पिटल में रातभर गूंजती रही चीख-पुकार

Danik Bhaskar | Jan 15, 2018, 10:58 AM IST

गुमला(झारखंड)। रांची-गुमला एनएच-43 पर पारस नदी पुल के पास रविवार रात अवैध बालू लेकर जा रहे तेज रफ्तार ट्रक ने ऑटो को टक्कर मार दी। हादसे में 13 लोगों की मौत हो गई। साेमवार को कड़ी सुरक्षा के बीच शवों का पोस्टमॉर्टम किया गया। टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि अॉटो के परखच्चे उड़ गए और लाशें सड़क पर बिखरी मिली। स्थानीय लोग और पुलिस की मदद से घायलों को हॉस्पिटल भेजा गया। जहां मृतक के परिजनों की रात भर चीख-पुकार गूंजती रही।

-इधर, मृतकों के परिजन सोमवार को मुआवजा व नौकरी की मांग को लेकर सड़क पर उतर आए। भरनो ब्लॉक मुख्यालय के मिशन चौक के समीप सड़क जाम कर दिया। इससे रांची-गुमला मेन रोड में वाहनों की लंबी कतार लग गई।

-दरअसल, ऑटो में ड्राइवर सहित 16 लोग थे। ये सभी मकर संक्रांति पर रांची के बेड़ो ब्लॉक में लगने वाले घघारी मेला देखने गए थे। देर शाम सभी लौट रहे थे।
-रात करीब नौ बजे पारस नदी के पास अवैध बालू लदे ट्रक (सीजी-14एमएस 3892) ने सामने से आ रहे ऑटो को टक्कर मार दी।
-मौके पर सबसे पहले कुछ स्थानीय पत्रकार पहुंचे। कुछ घायलों को अपनी गाड़ियों से सामुदायिक अस्पताल पहुंचाया। फिर पुलिस को सूचना दी।
-इसके बाद पुलिस जीप और एंबुलेंस से सभी घायलों को स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया गया। तब तक इनमें से चार लोगों की मौत हो चुकी थी। अन्य 12 घायलों को इलाज के लिए रिम्स (रांची) रेफर किया गया, जिनमें से आठ लोगों की रास्ते में ही मौत हो गई। एक ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। ट्रक ड्राइवर और खलासी फरार है।

80 की स्पीड में एंबुलेंस लेकर पहुंचा ड्राइवर
-इधर, जैस ही शवों को भरनो हॉस्पिटल लाया गया, अफरातफरी मच गई। ऑटो ड्राइवर मृतक कृष्ण की फैमिली दहाड़ मारकर रोने लगी। रोने की आवाज से पूरा हॉस्पिटल गूंज उठा।
-रिम्स में घायलों की स्थिति गंभीर बनी हुई है। वे बातचीत करने में असमर्थ हैं। सभी के सिर, पैर और शरीर के अन्य हिस्सों में गंभीर चोटें लगी हुईं हैं।
-पांच घायलों को लेकर रिम्स लेकर पहुंचे एंबुलेंस ड्राइवर धर्मेंद्र ने कहा-'मेरे एंबुलेंस में पांच घायलों को रखा गया। कहा गया कि इनकी हालत नाजुक है। रिम्स पहुंचाना है।'
-'मैं 80 की स्पीड में पौने दो घंटे में रिम्स पहुंच गया। वहां पहले से ही डॉक्टर और गार्ड तैयार थे। घायलों को तत्काल इमरजेंसी में ले जाया गया। पता चला कि उनमें से एक महिला की मौत हो चुकी है।'

फोटो: आरिफ हुसैन अख्तर।