--Advertisement--

सिल्ली और गोमिया विधानसभा उपचुनाव: बाबूलाल मरांडी से हेमंत सोरेन ने की मुलाकात

हेमंत सोरेन, बाबूलाल मरांडी के आवास पर पहुंचे और विपक्षी एकता को एकजुट करने पर बातें की।

Danik Bhaskar | May 01, 2018, 11:57 AM IST
हेमंत सोरेन ने बाबूलाल मरांडी से की मुलाकात। हेमंत सोरेन ने बाबूलाल मरांडी से की मुलाकात।

रांची। प्रतिपक्ष के नेता व झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम) के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन ने मंगलवार को पूर्व मुख्यमंत्री व झारखंड विकास मोर्चा(जेवीएम) के सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी से मुलाकात की। हेमंत सोरेन, बाबूलाल मरांडी के आवास पर पहुंचे और 28 मई को होने वाले सिल्ली और गोमिया विधानसभा उपचुनाव को लेकर विपक्षी एकता को एकजुट करने पर बातें की।

जेएमएम का समर्थन करेगा जेवीएम

हेमंत सोरेन ने बाबूलाल मरांडी से दोनों विधानसभा उपचुनाव में पार्टी का समर्थन मांगा और साथ में चुनाव प्रचार करने का भी आग्रह किया। बाबूलाल मरांडी ने आश्वासन दिया कि निश्चित ही वो समय आने पर विपक्षी एकता को मजबूत करेंगे और जैसी आवश्यकता बन पड़ेगी मदद जरूर करेंगे। दोनों नेताओं के बीच करीब आधे घंटे तक बातें हुईं।

आजसू सिल्ली व गोमिया दोनों जगह से लड़ेगी चुनाव, भाजपा को झटका
इधर, भाजपा-आजसू (ऑल झारखंड स्टूडेंट्स यूनियन) गठबंधन नाजुक मोड़ पर आ गया है। भाजपा ने रविवार को सिल्ली से पार्टी प्रत्याशी नहीं देकर आजसू का समर्थन किया था। लेकिन सोमवार को आजसू ने सिल्ली और गोमिया, दोनों सीटों से उम्मीदवार खड़ा करने की घोषणा कर दी। पार्टी के मुख्य केंद्रीय प्रवक्ता डॉ. देवशरण भगत ने कहा कि आजसू दोनों सीटों से चुनाव लड़ेगी। सिल्ली से पार्टी अध्यक्ष सुदेश महतो और गोमिया से लंबोदर महतो अधिकृत प्रत्याशी होंगे। आजसू की इस घोषणा के बाद भाजपा के लिए दिक्कत खड़ी हो गई है।

भाजपा-आजसू के बड़े नेताओं की तीन मई को बैठक
भाजपा ने रविवार को कहा था कि वह सिल्ली से प्रत्याशी नहीं देगी। इसके बदले गोमिया में उसे आजसू से समर्थन चाहिए। इसपर आजसू नेताओं से भी उनकी बात हुई है। लेकिन भाजपा के आग्रह को ठुकरा कर आजसू ने उसे करारा जवाब दिया है। सुदेश और लंबोदर 7 मई को अपना नामांकन करेंगे। भाजपा के सूत्रों के अनुसार दो दिनों तक आजसू के साथ गठबंधन पर आपसी विमर्श के बाद इसके बड़े नेताओं की तीन मई को बैठक होगी। उसमें आजसू के साथ गठबंधन को बनाए रखने के अलावा पार्टी प्रत्याशियों के नामों पर अंतिम रूप से विचार होगा।

फोटो: कौशल आनंद।