--Advertisement--

लालू

लालू

Dainik Bhaskar

Dec 23, 2017, 11:30 AM IST
लालू यादव और राबड़ी देवी। लालू यादव और राबड़ी देवी।

रांची। चारा घोटाला मामले में शनिवार की दोपहर सीबीआई कोर्ट ने लालू प्रसाद को दोषी करार दिया है। तीन जनवरी को उन्हें सजा सुनाई जाएगी। लालू को दोषी करार दिए जाने के तुरंत बाद उन्हें हिरासत में ले लिया गया है। वहीं इस मामले में बिहार के पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा और विद्यासागर निषाद समेत सात लोगों को रिहा कर दिया गया है। यह मामला 21 सालों से चल रहा है। तीन केस की सीबीआई कोर्ट में सुनवाई चल रही है। इनमें से एक पर जब लालू यादव को जेल हुई थी तो उन्होंने पत्नी राबड़ी देवी को सीएम बनवा दिया था। लालू फिलहाल जमानत पर हैं। देवघर जिले का था मामला...?

-शनिवार को जिस मामले पर फैसला आना है वो देवघर जिले का है। ये केस 1996 में दर्ज हुआ था। चाईबासा कोषागार से गलत तरीके से पैसा निकालने के मामले में लालू को सजा सुनाई जा चुकी है। लालू जेल भी जा चुके हैं।

-1997 के जुलाई महीने में लालू प्रसाद पहली बार जेल गए थे। चारा घोटाले में 900 करोड़ रुपए के हेरफेर का आरोप है। इसी घोटाले में सजा हो जाने के कारण लालू प्रसाद को मुख्यमंत्री की कुर्सी छोड़कर जेल जाना पड़ा था।

-इस घाेटाले में लगभग 900 करोड़ रुपए की थी और इसी घोटाले को लेकर उन्हें मुख्यमंत्री की गद्दी छोड़ जेल की सलाखों के पीछे जाना पड़ा था।
-इस मामले में उन्हें 1996 में सीबीआई की विशेष अदालत ने दोषी करार दिया था और 30 जुलाई 1997 को वो चारा घोटाले के आरोप में जेल चले गए थे।

अवैध निकासी के मामले दर्ज

-बिहार पुलिस (उस वक्त झारखंड की स्थापना नहीं की हुई थी) ने 1994 में राज्य के गुमला, रांची, पटना, डोरंडा और लोहरदगा जैसे कई कोषागारों से फर्ज़ी बिलों के जरिए करोड़ों रुपए की कथित अवैध निकासी के मामले दर्ज किए।
-रातों-रात सरकारी कोषागार और पशुपालन विभाग के कई सौ कर्मचारी गिरफ़्तार कर लिए गए, कई ठेकेदारों और सप्लायरों को हिरासत में लिया गया और राज्य भर में दर्जन भर आपराधिक मुक़दमे दर्ज किए गए।
-लेकिन बात यहीं ख़त्म नहीं हुई, राज्य के विपक्षी दलों ने मांग उठाई कि घोटाले के आकार और राजनीतिक मिली-भगत को देखते हुए इसकी जांच सीबीआई से कराई जाए।
-सीबीआई ने मामले की जांच की कमान संयुक्त निदेशक यूएन विश्वास को सौंपी और यहीं से जांच का रुख बदल गया।

ये है मामला
-10 मई 1997 को सीबीआई ने राज्यपाल से लालू के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी।
-23 जून 1997 को लालू और 55 अन्य के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की गई।
-29 जुलाई 1997 को लालू यादव को गिरफ्तार कर लिया गया था।
-12 दिसंबर 1997 को लालू यादव रिहा हो गए।
-लेकिन 28 अक्टूबर 1998 को लालू यादव को फिर से गिरफ्तार कर लिया गया।
-मार्च 2012 को सीबीआई ने पटना कोर्ट में लालू यादव, जगन्नाथ मिश्रा सहित 32 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की गई।
-2013 में चारा घोटाले से जुड़े एक मामले चाईंबासा केस में लालू को सजा मिली और अब वह जमानत पर बाहर हैं।

X
लालू यादव और राबड़ी देवी।लालू यादव और राबड़ी देवी।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..