Hindi News »Jharkhand »Ranchi »News» CM Raghuvar Das Said - Solve All The Problems With Ease.

सीएम ने की ईज ऑफ डूइंग बिजनेस विषय अधिकारियों साथ बैठक , कहा- सभी अधिकारी समस्याओं का सरलता से समाधान करें

सीएम ने की ईज ऑफ डूइंग बिजनेस विषय अधिकारियों साथ बैठक , कहा- सभी अधिकारी समस्याओं का सरलता से समाधान करें

Pawan Kumar | Last Modified - Nov 06, 2017, 06:06 PM IST

रांची। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि सरकार को देश के नागरिकों पर पूरा विश्वास है और भरोसा है। उनके कारोबार की सरलता और सुगमता देश और राज्यहित में है। हमारे नियम विकास के लिए है, बाधक बनने के लिए नहीं, सभी अधिकारी समस्याओं का सरलता से समाधान करें। व्यापरियों को अपनी समस्याएं न गिनाएं। सीएम सोमवार को झारखंड मंत्रालय में ईज ऑफ डूइंग बिजनेस विषय पर आयोजित संबंधित विभाग के अधिकारियों साथ बैठक को संबोधित कर रहे थे।
ऑनलाइन किए जा चुके विभागों में कोई भी काम ऑफलाइन नहीं
सीएम ने कहा- नियम-कानून सरल हो, निर्णय त्वरित और पारदर्शी होंगे, तभी निवेशक आएंगे। राज्य में व्यापार-उद्योग लगेंगे और विकास होगा। राज्य से पलायन रुकेगा। सरकार ने अच्छी नीति बना दी है, अब उसे लागू करने की जिम्मेदारी नीचे के अधिकारियों की है। सीएम ने निर्देश दिया कि ऑनलाइन किए जा चुके विभागों में कोई भी काम ऑफलाइन नहीं होनी चाहिए। यदि किसी के आवेदन में कोई कमी है, तो अधिकारी स्वयं संज्ञान लेते हुए संबंधित व्यक्ति से कागजात पूर्ण करने को कहें। इससे रिजेक्शन भी कम होगा। आवेदनों का रिजेक्शन कम करना भी सरकार की जिम्मेदारी है। लोगों का काम घर बैठे होगा, तो राज्य की छवि सुधरेगी। उन्होंने कहा कि हर विभाग का हर अधिकारी-कर्मचारी पहले नागरिक है, उसके बाद कुछ और है। सभी की जिम्मेवारी है कि राज्य का विकास हो, राज्य से गरीबी और पलायन समाप्त हो। यदि कोई अधिकारी नियम-कानून की आड़ में काम लटकाता है, तो उस पर कार्रवाई होगी। गरीब के टैक्स से सभी को तनख्वाह मिलती है। उनके जीवन में बदलाव लाने का काम करना है। झारखंड में संसाधन, मानव बल की कमी नहीं है। अब तो हमारे यहां नीतियां भी अच्छी बन गई हैं। सभी अधिकारी यदि ठान ले और जुनून के साथ काम करें, तो कोई कारण नहीं की हमारा झारखंड देश का सबसे समृद्ध राज्य न बन सके। यह हर झारखंडवासी के लिए गौरव की बात होगी। अधिकारी-कर्मचारी केवल नौकरी करनी है कि मानसिकता से काम न करें। राज्य के प्रति सभी का कुछ कर्त्तव्य भी है।

रिफॉर्म लागू करने में प्रदूषण, श्रम, ऊर्जा, नगर विकास, अग्निशमन जैसे विभागों की जिम्मेवारी ज्यादा
उन्होंने कहा कि हमारे यहां काफी सब्जियां होती है। यदि हम फूड प्रोसेसिंग इकाइयां लगवा सके, तो राज्य के किसानों की आमदनी काफी बढ़ जाएगी। उन्हें उनके उत्पाद की अच्छी कीमत मिल जाएगी। उनका जीवन समृद्ध हो जाएगा। आस पास के लोगों को रोजगार भी मिलेगा। रिफॉर्म लागू करने में प्रदूषण, श्रम, ऊर्जा, नगर विकास, अग्निशमन जैसे विभागों की जिम्मेवारी ज्यादा है। राज्य सरकार हर तीन माह में यह बैठक करेगी। विभागीय सचिव समय-समय पर बैठक कर अपने अधिकारियों को निवेशकों-व्यापारियों की समस्या के समाधान के लिए निर्देशित करते रहें। यह सुनिश्चित करें कि कोई भी आवदेन समयबद्ध निष्पादित हो और रिजेक्शन कम से कम हो। सरलीकरण का लाभ आम लोगों को मिले। नगर विकास विभाग से उन्होंने कहा कि घर का नक्शा पास करना पूरी तरह से ऑनलाइन करें। इससे भ्रष्टाचार रुकेगा।

निवेशकों के लिए जनसंवाद दूरभाष संख्या 181 में अलग सेल बनाएं
सीएम ने कहा कि निवेशकों के लिए जनसंवाद दूरभाष संख्या 181 में अलग सेल बनाएं। शिकायतों की जांच करें और दोषी अधिकारी-कर्मचारी पर कड़ी कार्रवाई करें। हम सभी को अपनी मानसिकता बदलनी होगी। अवैध तरीके से कमाए पैसों से जीवन में शांति नहीं आ सकती है। सुकून की नींद चाहिए, तो गरीब की भलाई के लिए काम करें। गलत तरीके से आए पैसों से बच्चों के जीवन पर भी गलत असर पड़ता है। मुख्यमंत्री ने सभी विभागों से अभियान चलाकर अगले 15 दिनों में सारे लंबित मामलों के निष्पादन का निर्देश दिया। ऊर्जा विभाग को बिजली, बिल व मरम्मति में सुधार को कहा। किसी फैक्टरी में छापेमारी करने के लिए जो गाइडलाइन बनाई गई है, उसका पालन करने को कहा। बिना वरीय अधिकारी को सूचित किए कहीं छापेमारी न हो और सभी विभाग के अधिकारियों की टीम साथ रहे। वन विभाग को ऑफलाइन आवेदन बंद कर केवल ऑनलाइन प्रक्रिया चलाने का निर्देश दिया।
राज्य के विकास के लिए निवेश जरूरी
बैठक में मुख्य सचिव राजबाला वर्मा ने कहा कि राज्य के विकास के लिए निवेश जरूरी है। ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में झारखंड को लीडर स्टेट का दर्जा मिला हुआ है। टीम के रूप में काम कर हम इसमें और सुधार कर सकते हैं। निवेशकों, व्यापारियों व आम लोगों के सहयोगी के रूप में काम करें। उन्हें मदद करें। उद्योग सचिव सुनील कुमार वर्णवाल ने कहा कि अगली बार से हर जिले की रैंकिंग होगी। झारखंड हर जिले में ईज ऑफ डूइंग बिजनेस मैनेजर बहाल करने वाले राज्यों में शामिल है। हर जिला खुद को टॉप में लाने का प्रयास करे। कार्यक्रम में अपर मुख्य सचिव अमित खरे, स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव संजय कुमार, विभिन्न विभागों के सचिव, प्रधान सचिव, वरीय अधिकारी उपस्थित थे।
आगे की स्लाइड्स में देखिए फोटो..
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×