--Advertisement--

टाटा स्टील के रिक्वेस्ट पर लालू ने भेजा था इन्हें, यूं बन गए थे एनकाउंटर स्पेशलिस्ट

टाटा स्टील के रिक्वेस्ट पर लालू ने भेजा था इन्हें, यूं बन गए थे एनकाउंटर स्पेशलिस्ट

Dainik Bhaskar

Nov 17, 2017, 12:27 PM IST
अजय कुमार को आज भी उनकी पुलिसि अजय कुमार को आज भी उनकी पुलिसि

जमशेदपुर (झारखंड)। जमशेदपुर के पूर्व सांसद डॉ. अजय कुमार को झारखंड प्रदेश कांग्रेस का नया अध्यक्ष बनाया गया है। मंगलवार को अजय के रांची पहुंचने पर कार्यकर्ताओं ने इनका जबरदस्त स्वागत किया। डॉ. अजय कुमार 2011 में जमशेदपुर लोकसभा क्षेत्र से चुनाव जीतकर सांसद बने थे। मेंगलोर निवासी डॉ. अजय बिहार कैडर के 1986 बैच के आईपीएस अफसर थे। जमशेदपुर के एसपी रहे...

- वह 1994 से लेकर 1996 तक जमशेदपुर के एसपी थे। उस समय टाटा स्टील के एमडी रहे जेजे ईरानी के स्पेशल रिक्वेस्ट पर बिहार के सीएम लालू प्रसाद ने अजय कुमार को जमशेदपुर भेजा था।

- जमशेदपुर में उन दिनों गुंडा राज हो गया था और अजय कुमार ने आते ही एक-एक कर सभी बदमाशों का एनकाउंटर कर दिया था।

- अजय कुमार की लोकप्रियता का अंदाज इस बात से लगाया जा सकता है कि 1996 में जमशेदपुर से जाने के बाद वे 2011 में वापस जमशेदपुर आए और डेढ़ लाख वोटों से चुनाव जीत गए।

डॉन ने डर से छोड़ दिया था शहर, कई हाे गए थे अंडरग्राउंड

- जमशेदपुर में एसपी रहे अजय कुमार ने यहां आने के बाद जैसे ही अपराधियों के एनकाउंटर करने शुरू किए, उनमें दहशत फैल गई। उस समय का बड़ा डॉन माना जाने वाला हिदायत खान शहर छोड़ कर भाग गया।

- गरम लाला गिराेह से उसकी खूनी अदावत चलती थी। दोनों गिरोह में अक्सर गैंगवार होते रहता था। अजय कुमार के दहशत के आगे गरम लाला गिरोह के भी कई सदस्य अंडरग्राउंड हो गए।

- कईयों को अजय कुमार ने एनकाउंटर में मार गिराया। जानकारों के मुताबिक एसपी अजय ने लगभग 15 से अधिक एनकाउंटर किए।

छोड़ दी आईपीएस की नौकरी, फिर टाटा मोटर्स में किया जॉब

- आईपीएस की नौकरी से इस्तीफा देकर वे टाटा मोटर्स में सीनियर एक्जीक्यूटिव बने। फिर पूर्व सीएम बाबूलाल मरांडी की पार्टी झारखंड विकास मोर्चा प्रजातांत्रिक में शामिल हो गए।

- बताया जाता है कि अपने सब ऑर्डिनेट्स की ड्यूटी और ईमानदारी को लेकर अजय कुमार का बिहार के तत्कालीन सीएम लालू प्रसाद से विवाद हो गया था, जिसके बाद उन्होंने इस्तीफा दे दिया।

- 2011 में झाविमो प्रजातांत्रिक के टिकट पर ही जमशेदपुर से लोकसभा का उपचुनाव लड़े और भाजपा के दिनेशानंद गोस्वामी को डेढ़ लाख से अधिक वोटों से हरा दिया। 23 अगस्त 2014 को कांग्रेस में शामिल हो गए। इसके बाद पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता बनाए गए।

- हालांकि 2014 के लोकसभा चुनाव में अजय कुमार को भाजपा के विद्युत वरण महतो ने लगभग एक लाख वोटों के अंतर से हरा दिया।

पटना के सिटी एसपी रह चुके हैं

- अजय कुमार पटना के सिटी एसपी रह चुके हैं। पटना में भी उनके नाम का बदमाशों में खौफ था। इसी कारण उन्हें जमशेदपुर भेजा गया।

- उन दिनों जमशेदपुर में अपराधियों के कई गैंग बन गए थे। सरेआम अपराधियों ने मर्डर, रंगदारी और अपहरण जैसी घटनाओं को अंजाम देना शुरू कर दिया था।

- आम लोग दहशत में थे। कारोबारियों का घर से निकलना मुश्किल हो गया था। इसी कारण तत्कालीन सीएम लालू प्रसाद से टाटा स्टील के एमडी ने विशेष आग्रह किया।

- इसके बाद अजय कुमार ने दो वर्ष में बतौर जमशेदपुर एसपी वहां कानून का राज लाया। उनके डर से अधिकतर अपराधियों ने शहर छोड़ दिया। जो रह गए वे एनकाउंटर में मारे गए।

एसपी रहते घोड़े पर निकलते थे, कई बच्चों का नाम रखा गया अजय

- अजय कुमार घोड़े पर भी निकला करते थे। देर रात तक वो सड़कों पर होते। उनका नाम सुनते ही अपराधियों की रूह कांपने लगती थी। कहा जाता है कि उस समय जितने बेटे पैदा हुए उनमें से अधिकतर के माता-पिता ने उनका नाम अजय रखा।

- जमशेदपुर के लोग आज भी अजय कुमार को बड़ी ही इज्जत के साथ याद करते हैं। कई लोगों के लिए आज भी वो हीरो हैं।

पुलिस मेडल पाने वाले यंगेस्ट आईपीएस आॅफिसर

- अजय कुमार प्रेसिडेंट पुलिस मेडल पाने वाले यंगेस्ट आईपीएस आॅफिसर रहे हैं। उन्हें प्रोबेशन के दौरान ही गैलेंट्री के लिए यह अवार्ड मिला था।

- इसके अलावा अजय कुमार संतोष एंड डूरंड ट्रॉफी के नेशनल लेवल के प्लेयर रह चुके हैं। उनके पास पर्सनल पायलट लाइसेंस भी है।

- अजय ने 1985 में पुडुचेरी के जवाहरलाल इंस्टीट्यूट ऑफ पोस्टग्रेजुएट मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च से एमबीबीएस की डिग्री ली है।


आगे की स्लाइड्स पर देखें संबंधित PHOTOS :

X
अजय कुमार को आज भी उनकी पुलिसिअजय कुमार को आज भी उनकी पुलिसि
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..