Hindi News »Jharkhand »Ranchi »News» Investigation Of Obscene CD Started In Jharkhand

बोकारो सीएस ऑफिस के क्लर्क रमेश कुमार के खिलाफ शिकायत अश्लील सीडी की जांच शुरू

बोकारो सीएस ऑफिस के क्लर्क रमेश कुमार के खिलाफ शिकायत अश्लील सीडी की जांच शुरू

Animesh Nachiketa | Last Modified - Nov 09, 2017, 02:38 PM IST

रांची/बोकारो। हेल्थ डिपार्टमेंट ने बोकारो जिले के सिविल सर्जन ऑफिस के क्लर्क रमेश कुमार के खिलाफ डीसी और एसपी को एक पत्र जारी किया गया है। साथ में एक शिकायत और सीडी भी संलग्न है, जिसकी जांच करके कार्रवाई करने के लिए कहा गया है। ये मामला आया सामने...

- दैनिक भास्कर ने मामला पता किया तो सामने आया कि बोकारो जिले में पोस्टेड हेल्थ डिपार्टमेंट की महिला कर्मचारियों ने अक्टूबर 2017 में चीफ सेक्रेटरी राजबाला वर्मा को एक शिकायत पत्र और सीडी भेजी थी। इसमें क्लर्क रमेश कुमार के कारनामों को उजागर किया गया है।

- सीडी में क्लर्क रमेश कुमार को एक महिलाकर्मी के साथ ऑफिस में ही अश्लील हरकतें करते हुए दिखाया गया है।

- यही कारण है कि अब इस मामले को गंभीरता से लेते हुए एडिशनल चीफ सेक्रेटरी (हेल्थ) सुधीर त्रिपाठी ने 23 अक्टूबर को बोकारो के डीसी और एसपी को पत्र भेजा गया है। इसमें एसपी को जांच के बाद सुसंगत धाराओं के तहत कार्रवाई करने को कहा है।

- इसके अलावा क्लर्क पर लगे अन्य आरोपों की जांच डीसी को करने के लिए कहा गया है। साक्ष्यों के साथ छेड़छाड़ न हो, इसके लिए क्लर्क का जिले से बाहर ट्रांसफर कर दिया गया है।

- हालांकि, आरोपी रमेश कुमार का कहना है कि यह सीडी पुरानी है और इस मामले में वह कंप्रोमाइज कर चुके हैं। अब साजिश के तहत उन्हें फंसाया जा रहा है।

इच्छा पूरी नहीं करने पर प्रताड़ित करता है

- चीफ सेक्रेटरी के नाम पर भेजे गए पत्र में रमेश कुमार पर अन्य आरोप भी लगाए गए हैं। कहा गया है कि क्लर्क की ओर से कार्यालय की महिला कर्मचारियों, एएनएम और स्टाफ नर्स को डरा-धमकाकर शारीरिक एवं आर्थिक शोषण किया जा रहा है। जो महिला कर्मचारी उसकी इच्छा की पूर्ति नहीं कर रही हैं, उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है।

- पत्र में आरोप लगाया गया है कि रमेश कुमार सिविल सर्जन ऑफिस बोकारो के अलावा पीएचसी चंदनकियारी के वेतन निकासी का कार्य भी करते हैं। जबकि चंदनकियारी सिविल सर्जन ऑफिस से 30 किमी दूर है और वहां क्लर्क पोस्टेड है, जिसे आज तक प्रभार नहीं दिया गया है। उनकी कार्यप्रणाली से चंदनकियारी का स्टाफ भी परेशान हैं।

- यह भी आरोप लगाया है कि पहले भी इसकी शिकायत बोकारो सिविल सर्जन ऑफिस, निदेशक प्रमुख एवं स्वास्थ्य विभाग को की गई थी। लेकिन हर बार उसके खिलाफ लगे आरोपों को दबा दिया गया।

सीडी में दिख रही महिला बोकारो में ही पोस्टेड थी

- आरोपपत्र के साथ सीडी भेजी गई। इसमें क्लर्क को जिस महिला के साथ दिखाया गया है, उसके बारे में बताया गया कि वह पहले चंदनकियारी में पोस्टेड थी, जिसे बाद में डिस्ट्रिक हेडक्वार्टर बुला लिया गया।

- क्लर्क रमेश कुमार के खिलाफ जनवरी 2017 में भी यह शिकायती पत्र सामने आया था, मगर उसके बाद मामले में कुछ नहीं हुआ।

मुझे साजिश के तहत फंसाया जा रहा, यह सीडी पुरानी है

- " मुझे साजिश के तहत फंसाया जा रहा है। अब जो सीडी दिखाई जा रही है, वह दो साल पुराना मामला है। इस मामले में पहले ही कंप्रोमाइज (समझौता) हो चुका है। जहां तक चंदनकियारी में आवास रखने का सवाल है तो मेरा परिवार अाज भी चंदनकियारी में रहता है। वहीं से आना-जाना करता हूं। मैंने बोकारो में कोई सरकारी आवास नहीं लिया है।" - रमेश कुमार, क्लर्क, सिविल सर्जन ऑफिस, बोकारो।

जांच में दोषी पाए जाने पर कार्रवाई

" सीडी और मिली शिकायत के आधार पर जांच के आदेश दिए गए हैं। बोकारो जिले के एसपी और डीसी को जांच के लिए कहा गया है। जांच में दोषी पाए जाने पर क्लर्क के खिलाफ कानूनी कार्रवाई होगी। फिलहाल क्लर्क का ट्रांसफर कर दिया गया है।" - वीके सिंह, ज्वाइंट सेक्रेटरी, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग।

वीडियो : पवन कुमार।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×