Hindi News »Jharkhand »Ranchi »News» Ranchi University Community Radio Khachi 90.4 FM Frequency Alot

रांची यूनिवर्सिटी की कम्युनिटी रेडियो खांची को ९०.४ एफएम फ्रिक्वेंसी अलॉट, शीघ्र गूंजेगी आवाज

रांची यूनिवर्सिटी की कम्युनिटी रेडियो खांची को ९०.४ एफएम फ्रिक्वेंसी अलॉट, शीघ्र गूंजेगी आवाज

RK Rakesh | Last Modified - Nov 25, 2017, 06:18 PM IST

रांची। रांची यूनिवर्सिटी के कम्युनिटी रेडियो स्थापित करने का मार्ग प्रशस्त हो गया है। राज्य सरकार स्थापना के 76 लाख रुपए आवंटित करने के बाद केंद्र सरकार ने रेडियो के संचालन के लिए फ्रिक्वेंसी अलॉट कर दिया गया है। भारत सरकार के कम्युनिकेशन एवं इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी मंत्रालय के टेलीकम्युनिकेशन डिपार्टमेंट ने रेडियो खांची के लिए 90.4 एफएम फ्रिक्वेंसी आवंटित कर दिया है।

कम्युनिटी रेडियो के डायरेक्टर डॉ. आनंद ठाकुर ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि संबंधित मंत्रालय से फ्रिक्वेंसी आवंटन के संबंधित लेटर मिल गया है। बताते चलें कि रेडियो की स्थापना के लिए पिछले छह साल से प्रयास चल रहा था। लेकिन तत्कालीन प्रशासन की लापरवाही के कारण कम्युनिटी रेडियो की स्थापना नहीं हो सकी थी।

24 घंटे वर्किंग आवर, दो रेडियो स्टेशन की स्वीकृति
कम्युनिटी रेडियो की स्थापना मोरहाबादी स्थित बेसिक साइंस भवन में की जाएगी। कम्युनिकेशन एवं इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी मंत्रालय के टेलीकम्युनिकेशन डिपार्टमेंट ने खांची के लिए दो स्टेशन की स्वीकृति दी है। इसमें पहले में फिक्स्ड आॅपरेटर और दूसरे में स्टैंड बाई आपरेटर की अनुमति मिली है। कम्युनिटी रेडियो के एंटीना की ऊंचाई 30 मीटर कम्युनिकेशन डिपार्टमेंट द्वारा निर्धारित की गई है।

रेडियो स्थापना के लिए तीन कार्य करना होगा पूरा
कम्युनिटी रेडियो की स्थापना के अब सिर्फ तीन कार्य पूरा करना शेष रह गया है। इसमें पहला स्टेंडिंग एडवाइजरी कमेटी फॉर फ्रिक्वेंसी एलोकेशन (एसएसीएफए) क्लियरेंस केंद्र सरकार से लिया जाएगा। इसके तहत कम्युनिकेशन आईटी मंत्रालय की अनुमति आवश्यक है। दूसरा रांची यूनिवर्सिटी और सूचना मंत्रालय के बीच एक एग्रीमेंट किया जाएगा। अंतिम चरण में आॅपरेटिंग लाइसेंस प्राप्त करने की प्रक्रिया पूरी की जाएगी। इसके साथ ही रेडियो स्थापना का कार्य पूरा हो जाएगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×