Hindi News »Jharkhand »Ranchi »News» Two Hardcore Naxal Surrendered In Palamu Jharkhand

पलामू मे दो नक्सलियों ने किया सरेंडर, एक दस लाख का इनामी तो दूसरा टीपीसी का हार्डकोर

पलामू मे दो नक्सलियों ने किया सरेंडर, एक दस लाख का इनामी तो दूसरा टीपीसी का हार्डकोर

Animesh Nachiketa | Last Modified - Nov 29, 2017, 12:54 PM IST

पलामू मे दो नक्सलियों ने किया सरेंडर, एक दस लाख का इनामी तो दूसरा टीपीसी का हार्डकोर

पलामू (झारखंड)। यहां प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा माओवादी के दस लाख रुपए के इनामी नक्सली एनुल मियां उर्फ गोविंद ने बुधवार को डीआईजी विपुल शुक्ला के सामने सरेंडर कर दिया। एनुल के अलावा एक अन्य नक्सली संगठन टीपीसी (तृतीय प्रस्तुति कमेटी) के भी एक हार्डकोर नक्सली अजय सहाय उर्फ रोशन ने हथियार डाले। एनुल आठ पुलिसकर्मियों की हत्या का मुख्य आरोपी है। पुलिस मान रही बड़ी कामयाबी...


- पलामू पुलिस इसे अपनी एक बड़ी कामयाबी मान रही है। एनुल उर्फ गोविंद पर राज्य सरकार ने दस लाख रुपए का इनाम रखा था। गांव में विवाद के कारण एनुल माओवादी बन गया था।

- 52 वर्षीय गोविंद के खिलाफ पलामू जिले के हरिहरगंज, पिपरा, औरंगाबाद, मोहम्मदगंज इत्यादि जगहों में कुल 21 मुकदमे दर्ज हैं।

- वहीं 30 वर्षीय रौशन के खिलाफ 24 मुकदमे विभिन्न थाना क्षेत्रों में दर्ज हैं। टीपीसी नक्सली अजय साव उर्फ रोशन चैनपुर और रामगढ़ आदि जंगली क्षेत्रों में सक्रिय था।
- मौके पर डीआईजी विपुल शुक्ला ने ऑपरेशन नई दिशा के तहत एनुल मियां को उसपर घोषित इनाम की राशि के रूप में दस लाख रुपए का चेक सौंपा।
- इस अवसर पर पलामू के कमिश्नर राजीव अरुण एक्का, डिप्टी कमिश्नर अमित कुमार और एसपी इंद्रजीत महथा समेत अन्य ऑफिसर्स मौजूद रहे।

लैंड माइंस विस्फोट में उड़ा दिया था आठ पुलिसकर्मियों को

- टंडवा थाना प्रभारी समेत आठ पुलिस कर्मियों को चार दिसंबर 2013 में लैंड माइंस विस्फोट कर उड़ाने के मामले का सूत्रधार एनुल खान रहा है।

- 2013 में क्राइम मीटिंग से जब थाना प्रभारी लौट रहे थे, इसी क्रम में नवीनगर थाना से 500 मीटर की दूरी पर उत्तर कोयल नहर के पास लैंड माइंस विस्फोट कर माओवादियों ने उनकी जीप उड़ा दी थी।

- विस्फोट में जीप के परखच्चे उड़ गए थे। इस घटना में थाना प्रभारी अजय कुमार सहित आठ पुलिस कर्मी शहीद हो गए थे।

2005 में बन गया था नक्सली, अभी था जोनल कमांडर

- पलामू के एसपी इंद्रजीम महथा ने बताया कि दस लाख का इनामी माओवादी एनुल मियां वर्ष 2005 में नक्सली बन गया था। उस समय वह एरिया कमिटी का सदस्य बनाया गया था। यह प्लाटून 29 दस्ता का मेंबर था, जिसका सचिव विनय यादव उर्फ मुराद उर्फ गुरुजी हुआ करता था।

- वर्तमान में एनुल संगठन में जोनल कमांडर के पद पर था। एनुल शादी-शुदा है। उसकी पत्नी सरवरी खातून है। उसे तीन बेटे और एक बेटी है। नक्सली बनने से पहले इसकी एक कपड़े की दुकान थी।

- पुलिस का दावा है कि एनुल मियां के सरेंडर से नक्सलियों को मध्य जोन (कोयल-सोन) में एक बड़ा झटका लगा है और इनका आधार स्तंभ ढ़ह गया है।

आगे की स्लाइड्स पर देखें संबंधित PHOTOS :

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Ranchi News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: 8 policekarmiyon ko udaane vaale maaovaadi ka srendar, btaayaa kyon bana thaa nksli
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×