--Advertisement--

कैट की रिसर्च रिपोर्ट का दावा

हेल्थ रिपोर्टर रांची कैट की रिसर्च रिपोर्ट में यह दावा किया गया है कि नोट पर मौजूद बैक्टीरिया से...

Dainik Bhaskar

Sep 12, 2018, 03:51 AM IST
Ranchi - कैट की रिसर्च रिपोर्ट का दावा
हेल्थ रिपोर्टर


कैट की रिसर्च रिपोर्ट में यह दावा किया गया है कि नोट पर मौजूद बैक्टीरिया से टीबी, अल्सर और पेट की बीमारियां हो सकती हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, करेंसी नोट हजारों लोगों के हाथों से होकर गुजरते हैं। इनमें गंभीर बीमारियों से ग्रस्त लोग भी शामिल हैं। इस तरह करेंसी हजारों प्रकार के कीटाणुओं के संपर्क में आती हैं। इससे बीमारियां फैलने का खतरा रहता है।

सेप्टिसीमिया और स्किन इंफेक्शन वाले कीटाणु भी पाए गए

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ करंट माइक्रोबायोलॉजी एंड एप्लाइड साइंसेज (आईजेसीएमएएस) ने तमिलनाडु के तिरुनेलवेली मेडिकल कॉलेज में 2016 में करंसी नोटों पर रिसर्च की थी। जिन 120 नोटों पर रिसर्च की गई, उनमें 86.4% नोट बैक्टीरिया से संक्रमित थे। ये नोट डॉक्टर्स, बैंक, बाजार, मीट कारोबारी, विद्यार्थी और गृहिणियों से लिए गए थे। इनमें यूरीन, सांस लेने में परेशानी, सेप्टिसीमिया, स्किन इन्फेक्शन, दिमागी बुखार आदि के कीटाणु पाए गए।

नोट पर मौजूद बैक्टीरिया से भी टीबी, अल्सर और पेट की बीमारी होने का खतरा

नोटों पर मौजूद होते हैं 78 तरह के बैक्टीरिया

काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च (सीएसआईआर) और इंस्टीट्यूट ऑफ जीनोमिक्स एंड इंटिग्रेटिव बायोलॉजी (आईजीआईबी) की रिसर्च में पाया गया है कि करेंसी नोटों में बीमारियां फैलाने वाले 78 तरह के बैक्टीरिया मौजूद होते हैं। इन नोटों से पेट खराब, टीबी और अल्सर जैसी बीमारियां हो सकती हैं। जापान और यूरोप के कई देशों में नोटों को मशीनों के जरिए बैक्टीरिया मुक्त किया जाता है।

X
Ranchi - कैट की रिसर्च रिपोर्ट का दावा
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..