बयान / सत्ता की मदहोशी में बोले जा रहे हैं मुख्यमंत्री: झामुमो



झामुमो महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य। (फाइल) झामुमो महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य। (फाइल)
X
झामुमो महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य। (फाइल)झामुमो महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य। (फाइल)

Dainik Bhaskar

Oct 12, 2019, 06:21 PM IST

रांची.  झामुमो द्वारा अादिवासी बहनों को दारु पिला कर विधवा बनाने के मुख्यमंत्री द्वारा दिये गये भाषण पर झामुमो ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। झामुमो महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि मुख्यमंत्री सत्ता की मदहोशी व घमंड में कुछ भी बोले जा रहे हैं। गुरुजी को पिता कहनेवाले मुख्यमंत्री अाज उन्हें भी गुरु घंटाल बोल सकते हैं। लेकिन वह इस सच्चाई को शायद भुल गये हैं कि झामुमो ने ही इस राज्य में शराबबंदी, नशाबंददी और महाजनी प्रथा को अाधार बना कर अपना अांदोलन शुरू किया था।

 

उन्होंने कहा- गुरुजी के साथ विनोद बिहारी महतो, निर्मल महतो सरीखे कई नेताओं ने अादिवासियों को जागरुक बनाने का काम किया था। मुख्यमंत्री को तो यह बताना चाहिए कि किसकी सरकार ने राज्य में दो वित्तीय वर्षों में खुद दारू बेचने का काम किया। किसकी सरकार में नकली दारू पीकर लोगों की मौत हो गयी। मुख्यमंत्री अावास के बगल में हातमा में नकली दारू पीने से मौत किसके कार्यकाल में हुई। इसलिए मुख्यमंत्री को एक भी उदाहरण पेश करना चाहिए कि झामुमो द्वारा पिलाये गए दारू से किस अादिवासी परिवार की मौत हुई अन्यथा सार्वजनिक रूप से माफी मांगनी चाहिए।

 

81 में जो सीटें झामुमो छोड़ेगा वह उसका त्याग होगा
मजबूत महागठबंधन के लिए झामुमो द्वारा त्याग किये जाने के सवाल पर सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि लोकसभा चुनाव में पार्टी ने त्याग किया। क्योंकि वह जानता है कि लोकसभा झामुमो प्रभावी ताकत नहीं बन सकता। लेकिन विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी ने पूरी तैयारी कर ली है। 81 में जो सीटें झामुमो छोड़ेगा, वह उसका त्याग ही होगा।

 

बदलाव महारैली से दिखेगा राज्य में राजनीतिक बदलाव
सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि 19 को प्रस्ताव बदलाव महारैली के बाद झारखंड की राजनीतिक फिजा में भारी बदलाव दिखेगा। क्योंकि इसका नाम ही बदलाव महारैली है। उन्होंने कहा कि जनता भी अपने जनतांत्रिक अधिकारों का प्रयोग कर बदलाव को बल देगी।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना