रांची / रिम्स डॉक्टरों से बात करेंगे मुख्यमंत्री, मान-सम्मान को ठेस पहुंचने की शिकायत करेंगे डॉक्टर



रघुवर दास। (फाइल फोटो) रघुवर दास। (फाइल फोटो)
X
रघुवर दास। (फाइल फोटो)रघुवर दास। (फाइल फोटो)

  • बैठक से पहले ही नाराज हुए डॉक्टर, प्रबंधन ने निकाला अादेश- बैठक से पहले वहीं अटेंडेंस बनाएंगे डॉक्टर

Dainik Bhaskar

Jul 13, 2019, 05:45 PM IST

रांची. मुख्यमंत्री रघुवर दास रविवार को रिम्स डॉक्टरों के साथ बैठक करेंगे। बैठक 11 बजे से रिम्स के नवनिर्मित ट्रॉमा सेंटर होगी। बैठक के बाद मुख्यमंत्री और केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री चार योजनाओं का शिलान्यास व उद्घाटन करेंगे। हाल में रिम्स डॉक्टरों के खिलाफ एसीबी जांच की घोषणा, प्राइवेट प्रैक्टिस विवाद और डॉक्टरों की ओर से रिम्स छोड़ने की घोषणा की बीच यह बैठक अहम मानी जा रही है। इधर बैठक से पूर्व ही रिम्स के डॉक्टर नाराज हो गए हैं। रिम्स निदेशक डॉ. दिनेश कुमार सिंह की ओर से बैठक के संबंध में एक आदेश निकाला गया है। जिसमें कहा गया है कि सभी डॉक्टरों का बैठक में उपस्थित होना अनिवार्य है। साथ ही सभी डॉक्टरों को बैठक की उपस्थिति पंजी में अपना अटेंडेंस दर्ज करना आवश्यक होगा। 

 

छह बिंदुओं पर मुख्यमंत्री का ध्यान आकृष्ट करेंगे डॉक्टर 
बैठक में रिम्स डॉक्टरों की ओर से छह बिंदुओं पर मुख्यमंत्री का ध्यान आकृष्ट कराया जाएगा। जिसमें मुख्य है रिम्स डॉक्टरों के खिलाफ एसीबी जांच की घोषणा। रिम्स डॉक्टरों का कहना है कि संस्थान के सभी डॉक्टर अस्पताल में मरीजों की सेवा कर रहे हैं, जबकि यह कहा जा रहा है कि रिम्स के डॉक्टर मरीजों की सेवा करने के बजाय निजी प्रैक्टिस कर रहे हैं। अपने कार्य में लापरवाही बरत रहे हैं। यह बिल्कुल ही गलत और दुखदाई है। 

 

सातवें वेतन आयोग के तहत भत्ता और पूर्ण एनपीए की मांग करेंगे डॉक्टर
रिम्स डॉक्टर मुख्यमंत्री के समक्ष अपनी मांगें भी रखेंगे। जिसमें सातवें वेतन आयोग के अनुरूप भत्ता भुगतान और एनपीए का भुगतान शामिल है। रिम्स डॉक्टरों का कहना है कि रिम्स बनने के बाद से ही एनपीए को लेकर अधिकारियों के अलग-अलग दृष्टिकोण है। कभी एनपीए दिया गया तो कभी आधे-अधूरे रूप में शुरू किया गया। वर्तमान में भी एनपीए वेतन के हिसाब से नहीं दिया जा रहा है। रिम्स (सरकारी) डॉक्टरों को उनका वेतन पर्ची एजी द्वारा निर्गत किया जाता है, लेकिन उसमें एनपीए का कोई जिक्र नहीं रहता है। डॉक्टरों के रिटायरमेंट के बाद उनके पेंशन में इसका लाभ नहीं मिल रहा है। संस्थान की ओर से एकेडमिक अलाउंस भी डॉक्टरों को नहीं दिया जा रहा है। इसके अलावा कालबद्ध पदोन्नति भी नहीं मिल रही है।

 

मान-सम्मान को ठेस पहुंचने की शिकायत मुख्यमंत्री से करेंगे डॉक्टर
डॉक्टरों ने कहा है कि रिम्स में चिकित्सा व्यवस्था एसीबी को सुपुर्द करने से नहीं बल्कि प्रबंधन सहित विभाग में व्याप्त अस्पष्टता एवं भ्रम की स्थिति दूर करने से होगी। कम संसाधन और मैन पावर की कमी के बाद भी रिम्स में मरीजों की बढ़ती संख्या यह बताती है कि डॉक्टर अपना काम ईमानदारी से कर रहे हैं। डॉक्टरों ने यह भी कहा कि अस्पताल प्रबंधन की ओर से जारी किए जा रहे नए-नए आदेशों और उससे उनके मान-सम्मान को ठेस पहुंचने की भी शिकायत मुख्यमंत्री से की जाएगी।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना