हजारीबाग / जेपी कारागार के हाई सिक्योरिटी सेल में बंद सजायाफ्ता बंदी ने फांसी लगाई, मौत

विलाप करते परिजन। विलाप करते परिजन।
X
विलाप करते परिजन।विलाप करते परिजन।

  • बंदी के मौत के बाद उग्र हुए कारागार के सैकड़ों बंदी, प्रशासन ने बजाई पगली घंटी
  • मामले की न्यायिक जांच के लिए डीसी को लिखा, दोषी पर होगी कार्रवाई : काराधीक्षक

Dainik Bhaskar

Jan 15, 2020, 07:11 PM IST

हजारीबाग. जेपी कारागार के हाई सिक्योरिटी सेल में बंद सजायाफ्ता बंदी ने मंगलवार की रात फांसी लगा जान दे दी। बंदी धनबाद जिला के धनसार बस्ताकोला नोनियाटोला निवासी देवनंदन नोनिया का पुत्र 32 वर्षीय योगेश कुमार चौहान था। इसकी मौत के बाद बाकि बंदी कारागार प्रशासन के विरुद्ध आक्रोशित हो गए। इनके विरोध के कारण बुधवार दोपहर 1.15 बजे तक शव कारागार परिसर में ही पड़ा रहा।

बंदी इतना उग्र हो गए कि कारागार प्रशासन को इमरजेंसी अलार्म (पगली घंटी) 1.04 बजे बजानी पड़ी। अलार्म बजते ही जिला पुलिस शासन काफिला जेपी कारागार पहुंच गया। कारागार प्रशासन के मान मनाेव्वल के बाद शव उठा और एचएमसीएच हजारीबाग पोस्टमाॅर्टम के लिए लाया गया। जहां मेडिकल बोर्ड से पोस्टमाॅर्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया।

मृतक के पिता देवनंदन नोनिया और माता सरस्वती देवी ने कहा कि मेरे पुत्र ने फांसी नहीं लगाई है। उसकी हत्या की गई है। मेरा पुत्र मानसिक रोगी था। उसका इलाज रिनपास से चल रहा था। पिछले तीन माह से न ही उससे हमलोगों को मिलने दिया जा रहा था और न ही रूटीन से दवा दी जा रही थी। बताया कि पत्र के माध्यम से हमलोगों ने कई बार कारागार प्रशासन से उसका इलाज बाहर से कराने की गुहार लगाई लेकिन सुना नहीं गया। आज यही कारण है कि मेरे बेटे की मौत हो गई।

काराधीक्षक हामिद अख्तर ने बताया कि योगेश कुमार चौहान मानसिक रोगी था। उसका इलाज रिनपास से चल रहा था। वह सामुहिक हत्याकांड एसटी केस नंबर 328/2014 का सजायाफ्ता बंदी था। वर्ष 2016 से धनबाद जेल से स्थानांतरित होने के बाद से जेपी कारागार हजारीबाग में हाई सिक्यूरिटी सेल में रह रहा था। उसने रात में पायजामा से ग्रिल के सहारे फांसी लगा ली। बुधवार को दिन में बंदी गिनती के लिए जुटे तो मृतक को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए समारोह आयोजन की मांग करने लगे। यहां तक कि वे जेल आईजी के आने के बाद ही शव को उठाने पर अड़ गए। उन्हें उग्र देखते हुए अलार्म बजाना पड़ा। उन्होंने कहा कि मैंने डीसी को लिख कर दे दिया है। इस घटनाक्रम की न्यायिक जांच होगी। किसी जुडिशियल मजिस्ट्रेट से जांच कराने की मांग की है। जांच में जो भी दोषी होंगे, उस पर कार्रवाई होगी।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना